छत्तीसगढ़

‘श्रीरामलला दर्शन’ के इच्छुक भक्त कर रहे हैं आवेदन

अयोध्या धाम जाने के लिए निकाय एवं ग्राम पंचायतों में ले रहे हैं आवेदन

कोरिया: छत्तीसगढ़ सरकार के बहुप्रतिक्षित श्रीरामलला दर्शन (अयोध्या धाम) योजना का लाभ लेने के लिए नगर पालिका परिषद, बैकुण्ठपुर, शिवपुर-चरचा तथा जिले के ग्राम पंचायतों में आवेदन जमा करना शुरू हो गया है। गत दिनों कलेक्टर विनय कुमार लंगेह ने कलेक्ट्रेट सभागृह में अधिकारियों की बैठक लेकर छत्तीसगढ़ शासन के पर्यटन विभाग द्वारा योजना के बारे में दी गई दिशा-निर्देश के संबंध में जानकारी साझा की थी।

आवेदन के साथ आवश्यक दस्तावेज करना होगा जमा
जानकारी के मुताबिक श्रीरामलला दर्शन (अयोध्या धाम) जाने के इच्छुक भक्तगण नगर पालिका परिषद, बैकुण्ठपुर, शिवपुर-चरचा तथा जिले के ग्राम पंचायतों में पर्यटन विभाग द्वारा जारी पांच पृष्ठों के आवेदन को जमा करने पर पावती दी जाएगी। जनपद पंचायत, सोनहत के सीईओ ने बताया कि ग्राम पंचायतों में कोटवारों के माध्यम से इस संबंध में मुनादी कराई गई है। आवेदन स्पष्ट हिंदी भाषा में ही भरे जाएंगे। साथ ही 3.5 बाई 3.5 सेमी साइज की नवीनतम रंगीन फोटो प्रथम पृष्ठ पर लगाना होगा साथ ही राशन कार्ड, ड्रायविंग लाइसेंस, विद्युत देयक, मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड या फिर शासन द्वारा स्वीकार्य कोई अन्य साक्ष्य जमा करना होगा।

प्रथम चरण में इन भक्तों को मिलेगी प्राथमिकता
जिले के इच्छुक आवेदनकर्ता में प्रथम चरण में 55 वर्ष अथवा उससे अधिक उम्र के व्यक्तियों को प्राथमिकता के साथ चयन किया जाएगा। इस योजना में भाग लेने वाले की न्यूनतम उम्र 18 वर्ष व अधिकतम 75 वर्ष होगा। 75 प्रतिशत हितग्राही ग्रामीण क्षेत्रों से तथा 25 प्रतिशत शहरी क्षेत्र के होंगे।

चिकित्सक प्रमाण देना होगा

यात्रियों के मेडिकल सर्टिफिकेट के अभाव में कोई यात्रा हेतु यात्री रवाना नहीं हो सकेगा। ब्लड ग्रुप, ब्लड प्रेशर, अस्थमा, एलर्जी, मधुमेह आदि का भी उल्लेख करना होगा ताकि यात्रा के दौरान मेडिकल सहायता की आवश्यकता होने पर मदद की जा सके। यात्री अपने स्वास्थ्य संबंधी दवाइयां स्वयं रखेंगे। यात्रा हेतु चिकित्सक द्वारा शारीरिक व मानसिक रूप से सक्षम होने का प्रमाण देंगे। मेडिकल टेस्ट में अनफिट पाए जाने गए यात्रियों के स्थान पर प्रतीक्षा सूची में शामिल व्यक्तियों को भेजने की व्यवस्था की जाएगी। पर्यटन विभाग द्वारा जारी निर्देश में बताया गया है कि श्रीरामलला दर्शन (अयोध्या धाम) के तहत जाने वाले या़त्री अपने साथ महंगे आभूषण, गहने आदि ले जाने पर प्रतिबंध होगा। यात्रियों को ठंड से बचने के लिए गर्म कपड़े रखेंगे तथा सामान की सुरक्षा स्वयं करेंगे। तीर्थ स्थल पर जाने वाले यात्रियों को मर्यादा के अनुसार आचरण करेंगे तथा वेशभूषा शालीन एवं पारंपरिक रखेंगे।

रामलला दर्शन योजना के तहत यात्रा की तिथियां और जरूरी जानकारी समय से पहले यात्रियों को दी जाएगी। योजना के क्रियान्वयन हेतु अपर कलेक्टर अरूण मरकाम को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया तो डिप्टी कलेक्टर उमेश पटेल को सहायक नोडल अधिकारी बनाया गया है।

 

 

और भी

विधायक-मंत्रियों के प्रदर्शन से सीएम साय गदगद, कहा : लगता नहीं कि ये नई विधानसभा है...

रायपुर: विधानसभा का बजट सत्र बुधवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गया। सत्र के दौरान पहली बार चुनकर आए विधायकों और मंत्रियों के प्रदर्शन पर मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय प्रसन्नता जताई। उन्होंने कहा कि सभी ने अच्छा परफॉर्मेंस दिया। ऐसा लगा ही नहीं कि यह नई विधानसभा है।

विधानसभा के सत्रावसान के बाद मीडिया से चर्चा में धुर नक्सल प्रभावित क्षेत्र से पहुंचे युवाओं से विधानसभा में मुलाकात पर मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने कहा कि जो कभी गांव से नहीं निकले थे, आज वह जगदलपुर, रायपुर घूम रहे हैं। इसका सारा श्रेय गृहमंत्री विजय शर्मा को जाता है। इन युवाओं के अंदर नई सोच विकसित होगी।

उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने नियद नेल्लानार योजना लॉन्च की है। युवाओं ने मुझसे बिजली, स्कूल, अस्पताल, राशन, शौचालय की मांग की है। खेतों में पानी के लिए ट्यूबवेल की मांग की है। बीजेपी की डबल इंजन की सरकार सारी सुविधाएं वहां पहुंचाएगी। सरकार के प्रति विश्वास बनेगा।

हिमाचल में राज्यसभा चुनाव में हुए क्रॉस वोटिंग पर मुख्यमंत्री साय ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस की डूबती हुई नैया है। नैया में छेद हो गया है, पानी भर रहा है, लोग अपनी सुरक्षा तो देखेंगे ही।

और भी

पीएम-किसान उत्सव दिवस आज

किसान सम्मान निधि की 16वीं किस्त जारी करेंगे प्रधानमंत्री

बिलासपुर: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 28 फरवरी को शाम 4 बजे यवतमाल, महाराष्ट्र से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की 16वीं किस्त की राशि जारी की जायेगी। जिसका लाइव प्रसारण शाम 4 बजे से वेबकास्ट के माध्यम से जगह जगह किया जावेगा। उक्त दिवस को पीएम-किसान उत्सव दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। बिलासपुर जिले में सभी ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी मुख्यालय में तथा जिला स्तरीय उत्सव कृषि विज्ञान केन्द्र सरकण्डा में मनाया जावेगा। जिसमें जिले के अधिकाधिक लाभार्थी कृषकों कृषक मित्रों, जनप्रतिनिधियों की सहभागिता होगी।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना भारत सरकार की एक फ्लैगशीप योजना है जो फरवरी 2019 से कियान्वित है। इस योजनांर्गत भारत सरकार द्वारा पात्र कृषि भूमि धारक पंजीकृत कृषकों को प्रति वर्ष 3 किस्तों में कुल छह हजार की सम्मान राशि उनके आधार लिंक एवं डीबीटी सक्षम,सक्रिय बैंक खातें में अंतरित की जाती है। जिन कृषकों का इकेवायसी, आधार सीडिंग एवं लैंड सीडिंग कार्य पूर्ण है, के बैंक खातें में किस्त की राशि तुरंत अंतरित होता है। बिलासपुर जिले में 1.46 लाख पंजीकृत कृषकों के बैंक खातें में राशि रु. 264 करोड़ अब तक अंतरित हुआ है। सभी किसानों से अपील है कि, अपने क्षेत्र के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी मुख्यालय में को उपस्थित होकर पीएम-किसान, उत्सव दिवस के वेबकास्ट प्रसारण में सहभागी बने।

और भी

छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था को गति देने रोड मैप तैयार

 उप संचालक घनश्याम केशरवानी

रायपुर, 26 फरवरी 2024/ छत्तीसगढ़ सरकार के वित्तीय वर्ष 2024-25 के बजट में छत्तीसगढ़ को विकसित और समृ़द्ध राज्य बनाने के लिए रोड मैप की स्पष्ट रूप रेखा भी दिखती है। छत्तीसगढ़ सरकार के बजट में सेवाक्षेत्र को बढ़ावा देने की रणनीति शामिल की गई है। आईटी सेक्टर, हेल्थ डेस्टिनेशन, ईको-टूरिज्म सर्किट, वेडिंग डेस्टिनेशन, बिजनेस टूरिज्म, कान्फ्रेंस डेस्टिनेशन जैसे नये उभरते हुए संभावनाओं वाले क्षेत्रों का लाभ प्रदेश के युवाओं और उद्यमियों को मिलेगा। 


बजट में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए खुले मन से राज्य में निवेशकों का स्वागत करने की बात कही गई है, इसके लिए राज्य में रेड टेपिज्म के स्थान पर रेड कारपेट की नीति होगी। उद्योगों की स्थापना के लिए ‘मिनिमम गर्वमेंट, मैक्सिमम गवर्नेंस’ की नीति पर काम होगा। इज ऑफ डूइंग बिजनेस, सिंगल विण्डो प्रणाली, ऑनलाईन परमिशन, मिनिमम परमिशन जैसी नीति लागू होंगी। पब्लिक-प्राइवेट-पॉर्टनरशिप के लिए नीति आयोग और भारतीय प्रबंध संस्थानों के विशेषज्ञों का सहयोग लिया जाएगा। 

छत्तीसगढ़ की भौगोलिक विशेषताओं के अनुरूप आर्थिक विकास के लिए विकेन्द्रीकृत नीति पर काम होगा, इसके लिए विकेन्द्रीकृत विकास पॉकेट की स्थापना की जाएगी। रायपुर, भिलाई सहित आसपास के क्षेत्रों को स्टेट कैपिटल के रूप में विकसित करने की योजना भी तैयार की जाएगी। इन क्षेत्रों में विश्व स्तरीय आईटी सेक्टर, वेडिंग डेस्टिनेशन, हेल्थ डेस्टिनेशन के रूप में विकसित किया जाएगा। नवा रायपुर, अटल नगर में ‘लाईवलीहुड सेंटर ऑल एक्सीलेंस’ एवं दुर्ग जिले में ‘सेंटर ऑॅफ एंटरप्रेन्योरशिप’ स्थापित किया जाएगा। स्टार्ट-अप को प्रोत्साहित करने के लिए इन्यूबेशन सेंटर की स्थापना तथा बी.पी.ओ. एवं के.पी.ओ. को आकर्षित करने के लिए आई.टी. पार्क की स्थापना की जाएगी। 

छत्तीसगढ़ राज्य के बजट में रायपुर, नवा रायपुर अटल नगर, बिलासपुर, दुर्ग, भिलाई, अंबिकापुर, जगदलपुर, कोरबा एवं रायगढ़ जैसे प्रमुख नगरों को ग्रोथ इंजन के रूप में विकसित करने की बात कही गई है। कोरबा, जांजगीर, रायगढ़, उरला, सिलतरा जैसे क्षेत्रों में वहां की आवश्यकता के अनुरूप औद्योगिकरण की नीति बनायी जाएगी। मैदानी कृषि प्रधान जिलों में कृषि आधारित विकास को बढ़ावा दिया जाएगा। ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने के लिए विशेष फोकस किया जाएगा। 

बस्तर-सरगुजा क्षेत्र में आर्थिक विकास की दृष्टि सें एयर कनेक्टिविटी को बढ़ाने के लिए सार्थक पहल की जाएगी। इन क्षेत्रों को इको-टूरिज्म एवं नैचरोपैथी डेस्टिनेशन के रूप में विकसित करने का प्रयास किया जाएगा। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए राज्य के पांच शक्तिपीठों को धार्मिक, पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाएगा। बस्तर क्षेत्र में लघु वनोपज प्रसंस्करण हेतु उद्योगों की स्थापना की जाएगी। सरगुजा क्षेत्र में उद्यानिकी एवं मछली पालन की संभावनाओं को प्रोत्साहित किया जाएगा। इस प्रकार समन्वित प्रयास करते हुए इन क्षेत्रों की आर्थिक संभावनाओं को मूर्त रूप दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय ने अनेक अवसरों पर कहा है कि हमने अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने का संकल्प लिया है। हमारा लक्ष्य विकसित छत्तीसगढ़ बनाना है। हम विकसित छत्तीसगढ़ के संकल्प को पूरा करने के लिए बजट में तैयार किए गए रोडमैप के अनुरूप कार्य करेंगे। राज्य की अर्थव्यवस्था को तेजी से विकसित करने और उच्च विकास दर हासिल करने के लिए बजट में अनेक प्रावधान किये गये हैं, इस वर्ष राज्य के बजट में पूंजीगत व्यय में वृद्धि की गयी है।
और भी

राजिम कुंभ कल्प 2024, श्री राम के जीवन पर आधारित झांकी का हो रहा प्रदर्शन

मुख्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय की पहल से लौटी राजिम कुंभ कल्प की भव्यता, धर्म नगरी राजिम का मेला स्थल रामोत्सव की थीम पर सजाया गया, श्री राम के जीवन पर आधारित झांकी का हो रहा प्रदर्शन, 

राजिम कुंभ मेला में हजारों लोगों को मिल रहा निःशुल्क भोजन स्थानीय कलाकारों को प्रतिभा प्रदर्शन का मिल रहा मौका

27 फरवरी को मुख्यमंच पर गोपा सान्याल की टीम और उर्वसी साहू लोक कलामंच की होगी प्रस्तुति

गरियाबंद 26 फरवरी 2024/मुख्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय ने 7 जनवरी 2024 को राजिम भक्तिन माता जयंती के अवसर पर कहा था कि राजिम कुंभ की भव्यता पुनः लौटेगी। देश भर से साधु संत इसमें शामिल होने आएंगे। मुख्यमंत्री श्री साय की विशेष पहल से राजिम कुंभ की वैभवता पुनः लौट आई है। संस्कृति मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल की निगरानी में राजिम कुंभ कल्प-2024 इस बार भगवान श्रीराम को समर्पित करते हुए पूरे कुंभ की संरचना श्रीराम की थीम पर आधारित किया गया है। कुंभ मेला परिसर में जगह-जगह भगवान श्रीराम और उनके आराध्य भगवान सदाशिव की प्रतिमाएं रंगोली और कट-आउट जगह-जगह नजर आने से पूरा राजिम राममय नजर आ रहा है। यहां पर आने वाले स्थानीय लोक मंच के कलाकार सहित राष्ट्रीय स्तर के कलाकारों की गायिकी में भी राम रस बरसता हुआ नजर आ रहा है। भगवान श्री राजीव लोचन जो स्वयं भगवान विष्णु के अवतार है, तो प्रभु श्री राम भी विष्णु के अवतार है और यहां पर श्रीराम की थीम पर आयोजित कुंभ में जगह-जगह विराजे राम को देखकर ऐसा लगता है मानो छत्तीसगढ़ की इस पावन धरा में स्थित लोमश ऋषि आश्रम में मानो पुनः राम पधारे हो और संगम के तट पर राम का राम से मिलन हो रहा है। इस अनुपम छटा का साक्षात्कार जब शाम को लेजर लाइट और साउंड के माध्यम से होता है तब उपस्थित जन समुदाय भक्ति के उस रोमांच से भाव विभूत हो जाता है जिसका वर्णन करना जन-साधारण के लिए असंभव है इस रोमांच को सिर्फ महसूस किया जा सकता है।


झांकी के माध्यम से प्रभु श्री राम के आदर्शो और उनके छत्तीसगढ़ वनवास अवधि को जानने और देखने का मिल रहा अवसर -

राजिम कुंभ मेला स्थल में प्रभु श्री राम के जीवन चरित्र और उनके छत्तीसगढ़ वनवास अवधि पर आधारित जीवंत झांकी का प्रदर्शन किया जा रहा है। जोकि मेला में पहुंचने वाले समस्त श्रद्धालुओं को अपनी ओर सहर्ष आकर्षित कर रहा है। लोग धार्मिक सद्भाव और मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के आदर्शो को अनुभव कर इस झांकी आनंद उठा रहे हैं। 


मुख्य मंच पर हो रही प्रसिद्ध राष्ट्रीय कलाकारों की प्रस्तुति, 27 फरवरी को मुख्यमंच पर गोपा सान्याल की टीम और उर्वसी साहू लोक कलामंच की प्रस्तुति होगी-  

मेला में मुख्यमंच पर राष्ट्रीय एवं लोक कलाकारों की प्रस्तुति देखकर दर्शक भी झूमने को मजबूर हो रहे हैं। 24 फरवरी से शुरू हुए राजिम कुंभ के दूसरे दिन रविवार को मुख्यमंच पर छत्तीसगढ़ के फिल्म स्टार राजेश अवस्थी की शानदार प्रस्तुति देखकर दर्शक भी नाचने थिरकने लगे। मुख्य मंच पर कार्यक्रम की पहली प्रस्तुति लोकधारा के संचालक राजेश साहू करडरका कुम्हारी ने गणेश वंदना के साथ शुरूआत की। कुमार पण्डित ने शास्त्रीय गीतों की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम की अंतिम प्रस्तुति अमर श्रीवास की टीम द्वारा छतीसगढ की परंपरा को जीवंत दिखाने का बखूबी प्रयास किया। मंगलवार 27 फरवरी को मुख्यमंच पर गोपा सान्याल की टीम और उर्वसी साहू लोक कलामंच की प्रस्तुति होगी। अन्य कार्यक्रमों में भावना टांक रायपुर द्वारा गायन, रोशन कुमार साहू नंदनी द्वारा हमर छत्तीसढ़ लोकमंच की प्रस्तति होगी।


राजिम कुंभ मेला में हजारों लोगों को मिल रहा निःशुल्क भोजन -

राजिम कुंभ मेला में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं, मेलार्थी को किसी प्रकार की परेशानिया न हो इसका पूरा ख्याल रखा गया है। राजिम मेला पहुंचने के लिए रायपुर, धमतरी, महासमुंद और गरियाबंद चारों जिलों के विभिन्न क्षेत्रों से बसों की सुविधा रखी गई है। वहीं मेला में आए सभी श्रद्धालुओं के मूलभूत सुविधाएं जैसे भोजन, पेयजल, शौचालय की व्यवस्था रखी गई है।


राजिम कुंभ में लोकमंच के कलाकारों ने दर्शकों की वाहवाही लूटी -

मुख्य मंच में क्षेत्र के स्थानीय कलाकारों ने अपनी रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुति दी और दर्शकों की वाहवाही लूटी। इसी तारतम्य में शांति साहू और उनके सहयोगी कलाकारों ने भजन गाकर पूरा माहौल भक्तिमय कर दिया। गायिका ऐश्वर्या साहू द्वारा गाया भजन वीर हनुमाना को श्रोताओ ने काफी पसंद किया।
और भी

राजिम कुंभ मेला में हजारों लोगों को मिल रहा निःशुल्क भोजन

धर्म नगरी राजिम का मेला स्थल रामोत्सव की थीम पर सजाया गया

रायपुर: मुख्यमंत्री विष्णु देव साय ने 7 जनवरी 2024 को राजिम भक्तिन माता जयंती के अवसर पर कहा था कि राजिम कुंभ की भव्यता पुनः लौटेगी। देश भर से साधु संत इसमें शामिल होने आएंगे। मुख्यमंत्री श्री साय की विशेष पहल से राजिम कुंभ की वैभवता पुनः लौट आई है। संस्कृति मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल की निर्देशन में राजिम कुंभ कल्प-2024 इस बार भगवान श्रीराम को समर्पित करते हुए पूरे कुंभ की संरचना श्रीराम की थीम पर आधारित किया गया है। कुंभ मेला परिसर में जगह-जगह भगवान श्रीराम और उनके आराध्य भगवान सदाशिव की प्रतिमाएं रंगोली और कट-आउट जगह-जगह नजर आने से पूरा राजिम राममय नजर आ रहा है। यहां पर आने वाले स्थानीय लोक मंच के कलाकार सहित राष्ट्रीय स्तर के कलाकारों की गायिकी में भी राम रस बरसता हुआ नजर आ रहा है। भगवान श्री राजीव लोचन जो स्वयं भगवान विष्णु के अवतार है, तो प्रभु श्री राम भी विष्णु के अवतार है और यहां पर श्रीराम की थीम पर आयोजित कुंभ में जगह-जगह विराजे राम को देखकर ऐसा लगता है मानो छत्तीसगढ़ की इस पावन धरा में स्थित लोमश ऋषि आश्रम में पुनः राम पधारे हो और संगम के तट पर राम का राम से मिलन हो रहा है। इस अनुपम छटा का साक्षात्कार जब शाम को लेजर लाइट और साउंड के माध्यम से होता है तब उपस्थित जन समुदाय भक्ति के उस रोमांच से भाव विभूत हो जाता है जिसका वर्णन करना जन-साधारण के लिए असंभव है, इस रोमांच को सिर्फ महसूस किया जा सकता है।

राजिम कुंभ मेला स्थल में प्रभु श्री राम के जीवन चरित्र और उनके छत्तीसगढ़ वनवास अवधि पर आधारित जीवंत झांकी का प्रदर्शन किया जा रहा है। जोकि मेला में पहुंचने वाले समस्त श्रद्धालुओं को अपनी ओर सहर्ष आकर्षित कर रहा है। लोग धार्मिक सद्भाव और मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के आदर्शाे को अनुभव कर झांकी आनंद उठा रहे हैं।

मुख्य मंच पर हो रही प्रसिद्ध राष्ट्रीय कलाकारों की प्रस्तुति, 27 फरवरी को गोपा सान्याल की टीम और उर्वसी साहू लोक कलामंच की होगी प्रस्तुति -  

मेला में मुख्यमंच पर राष्ट्रीय एवं लोक कलाकारों की प्रस्तुति देखकर दर्शक भी झूमने को मजबूर हो रहे हैं। 24 फरवरी से शुरू हुए राजिम कुंभ के दूसरे दिन रविवार को मुख्यमंच पर छत्तीसगढ़ के फिल्म स्टार राजेश अवस्थी की शानदार प्रस्तुति देखकर दर्शक भी थिरकने लगे। मुख्य मंच पर कार्यक्रम की पहली प्रस्तुति लोकधारा के संचालक राजेश साहू करडरका कुम्हारी ने गणेश वंदना के साथ शुरूआत की। कुमार पण्डित ने शास्त्रीय गीतों की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम की अंतिम प्रस्तुति अमर श्रीवास की टीम द्वारा छतीसगढ की परंपरा को जीवंत दिखाने का बखूबी प्रयास किया। मंगलवार 27 फरवरी को मुख्यमंच पर गोपा सान्याल की टीम और उर्वसी साहू लोक कलामंच की प्रस्तुति होगी। अन्य कार्यक्रमों में भावना टांक रायपुर द्वारा गायन, रोशन कुमार साहू नंदनी द्वारा हमर छत्तीसढ़ लोकमंच की प्रस्तति होगी।

राजिम कुंभ मेला में हजारों लोगों को मिल रहा निःशुल्क भोजन -

राजिम कुंभ मेला में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं, मेलार्थी को किसी प्रकार की परेशानिया न हो इसका पूरा ख्याल रखा गया है। राजिम मेला पहुंचने के लिए रायपुर, धमतरी, महासमुंद और गरियाबंद चारों जिलों के विभिन्न क्षेत्रों से बसों की सुविधा उपलब्ध की गई है। वहीं मेला में आए सभी श्रद्धालुओं के मूलभूत सुविधाएं जैसे भोजन, पेयजल, शौचालय की व्यवस्था रखी गई है।

राजिम कुंभ में लोकमंच के कलाकारों ने दर्शकों की वाहवाही लूटी -

मुख्य मंच में क्षेत्र के स्थानीय कलाकारों ने अपनी रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुति दी और दर्शकों की वाहवाही लूटी। इसी तारतम्य में शांति साहू और उनके सहयोगी कलाकारों ने भजन गाकर पूरा माहौल भक्तिमय कर दिया। गायिका ऐश्वर्या साहू द्वारा गाया भजन वीर हनुमाना को श्रोताओ ने काफी पसंद किया।

और भी

छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था को गति देने रोड मैप तैयार

छत्तीसगढ़ सरकार के वित्तीय वर्ष 2024-25 के बजट में छत्तीसगढ़ को विकसित और समृ़द्ध राज्य बनाने के लिए रोड मैप की स्पष्ट रूप रेखा भी दिखती है। छत्तीसगढ़ सरकार के बजट में सेवाक्षेत्र को बढ़ावा देने की रणनीति शामिल की गई है। आईटी सेक्टर, हेल्थ डेस्टिनेशन, ईको-टूरिज्म सर्किट, वेडिंग डेस्टिनेशन, बिजनेस टूरिज्म, कान्फ्रेंस डेस्टिनेशन जैसे नये उभरते हुए संभावनाओं वाले क्षेत्रों का लाभ प्रदेश के युवाओं और उद्यमियों को मिलेगा।

बजट में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए खुले मन से राज्य में निवेशकों का स्वागत करने की बात कही गई है, इसके लिए राज्य में रेड टेपिज्म के स्थान पर रेड कारपेट की नीति होगी। उद्योगों की स्थापना के लिए ‘मिनिमम गर्वमेंट, मैक्सिमम गवर्नेंस’ की नीति पर काम होगा। इज ऑफ डूइंग बिजनेस, सिंगल विण्डो प्रणाली, ऑनलाईन परमिशन, मिनिमम परमिशन जैसी नीति लागू होंगी। पब्लिक-प्राइवेट-पॉर्टनरशिप के लिए नीति आयोग और भारतीय प्रबंध संस्थानों के विशेषज्ञों का सहयोग लिया जाएगा।

छत्तीसगढ़ की भौगोलिक विशेषताओं के अनुरूप आर्थिक विकास के लिए विकेन्द्रीकृत नीति पर काम होगा, इसके लिए विकेन्द्रीकृत विकास पॉकेट की स्थापना की जाएगी। रायपुर, भिलाई सहित आसपास के क्षेत्रों को स्टेट कैपिटल के रूप में विकसित करने की योजना भी तैयार की जाएगी। इन क्षेत्रों में विश्व स्तरीय आईटी सेक्टर, वेडिंग डेस्टिनेशन, हेल्थ डेस्टिनेशन के रूप में विकसित किया जाएगा। नवा रायपुर, अटल नगर में ‘लाईवलीहुड सेंटर ऑल एक्सीलेंस’ एवं दुर्ग जिले में ‘सेंटर ऑॅफ एंटरप्रेन्योरशिप’ स्थापित किया जाएगा। स्टार्ट-अप को प्रोत्साहित करने के लिए इन्यूबेशन सेंटर की स्थापना तथा बी.पी.ओ. एवं के.पी.ओ. को आकर्षित करने के लिए आई.टी. पार्क की स्थापना की जाएगी।

छत्तीसगढ़ राज्य के बजट में रायपुर, नवा रायपुर अटल नगर, बिलासपुर, दुर्ग, भिलाई, अंबिकापुर, जगदलपुर, कोरबा एवं रायगढ़ जैसे प्रमुख नगरों को ग्रोथ इंजन के रूप में विकसित करने की बात कही गई है। कोरबा, जांजगीर, रायगढ़, उरला, सिलतरा जैसे क्षेत्रों में वहां की आवश्यकता के अनुरूप औद्योगिकरण की नीति बनायी जाएगी। मैदानी कृषि प्रधान जिलों में कृषि आधारित विकास को बढ़ावा दिया जाएगा। ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने के लिए विशेष फोकस किया जाएगा।

बस्तर-सरगुजा क्षेत्र में आर्थिक विकास की दृष्टि सें एयर कनेक्टिविटी को बढ़ाने के लिए सार्थक पहल की जाएगी। इन क्षेत्रों को इको-टूरिज्म एवं नैचरोपैथी डेस्टिनेशन के रूप में विकसित करने का प्रयास किया जाएगा। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए राज्य के पांच शक्तिपीठों को धार्मिक, पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाएगा। बस्तर क्षेत्र में लघु वनोपज प्रसंस्करण हेतु उद्योगों की स्थापना की जाएगी। सरगुजा क्षेत्र में उद्यानिकी एवं मछली पालन की संभावनाओं को प्रोत्साहित किया जाएगा। इस प्रकार समन्वित प्रयास करते हुए इन क्षेत्रों की आर्थिक संभावनाओं को मूर्त रूप दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री विष्णु देव साय ने अनेक अवसरों पर कहा है कि हमने अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने का संकल्प लिया है। हमारा लक्ष्य विकसित छत्तीसगढ़ बनाना है। हम विकसित छत्तीसगढ़ के संकल्प को पूरा करने के लिए बजट में तैयार किए गए रोडमैप के अनुरूप कार्य करेंगे। राज्य की अर्थव्यवस्था को तेजी से विकसित करने और उच्च विकास दर हासिल करने के लिए बजट में अनेक प्रावधान किये गये हैं, इस वर्ष राज्य के बजट में पूंजीगत व्यय में वृद्धि की गयी है।

और भी

हमारी सरकार आई तो रद्द होगी अग्निवीर योजना : भूपेश बघेल

रायपुर: लोकसभा चुनाव नजदीक आते ही भाजपा और कांग्रेस के बीच आरोप प्रत्यारोप के दौरा तेज होने लगा है। मोदी सरकार के कामकाज और नीतियों को लेकर कांग्रेस लगातार हमलावर है। मोदी सरकार को रोजगार के मुद्दे पर लगातार राहुल गांधी अपनी भारत जोड़ों न्याय में घेरते नजर आ रहे हैं। इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एक पोस्ट कर युवाओं से बड़ा वादा कर डाला है। उन्होंने कह दिया है कि हमारी सरकार आते ही अग्निवीर योजना रद्द कर दी जाएगी। इसके बाद सेना में पक्की भर्ती की जाएगी। हालांकि, इस योजना को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी से लेकर तमाम बड़े नेता इसका लगातार विरोध कर रहे हैं।


बता दें कि मोदी सरकार युवाओं को रोजगार देने के लिए अग्निवीर योजना लेकर आई थी। इसके तहत युवाओं को जल, थल और वायु सेना में 4 साल के लिए नौकरी दी जा रही है। जब से ये योजना शुरू की गई है तब से कांग्रेस इसे बैन करने की मांग करते हुए इसका विरोध कर रही है। कांग्रेस के तमाम नेताओं का कहना है कि ये योजना लाकर मोदी सरकार युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है।

 

 

और भी

जंगल सफारी में स्कूली बच्चों की एंट्री फ्री, वन मंत्री ने की घोषणा

रायपुर: नवा रायपुर स्थित जंगल सफारी में अब कक्षा पहली से बारहवीं तक के स्कूली बच्चों को निशुल्क एंट्री मिलेगी। वन मंत्री केदार कश्यप ने विधानसभा में अनुदान मांगों पर चर्चा के जवाब के दौरान यह घोषणा की। इसके साथ ही मंत्री सिंचाई क्षमता में वृद्धि करने भाजपा शासन में संचालित 35 परियोजनाओं को फिर से शुरू करने की बात कहीं।


वनों में वन्य प्राणियों के संरक्षण में उत्कृष्ट सेवा करने वाले कर्मचारियों को अवार्ड दिए जाएंगे। बस्तर संभाग में मुख्य अभियंता कार्यालय खोले जाएंगे। प्रदेश के जंगलों में विभिन्न प्रजातियों के पेड़-पौधों संरक्षित, संवर्धन और नई प्रजाति विकसित करने के लिए वन विज्ञान केंद्र खोले जाएंगे। इसके अलावा प्रदेश में ईको टूरिज्म बोर्ड की स्थापना की जाएगी।

 

 

और भी

मोदी की गारंटी के साथ विकसित राज्य की ओर तेजी से बढ़ रहा छत्तीसगढ़ : विजय शर्मा

पीएम मोदी ने 34,427 करोड़ की 10 परियोजनाओं का किया लोकार्पण और शिलान्यास

कवर्धा: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को भारत सरकार द्वारा आयोजित विकसित भारत संकल्प यात्रा में छत्तीसगढ़ सहित कबीरधाम जिला से वर्चुअल माध्यम जुड़े। प्रधानमंत्री मोदी ने बटन दबाकर 34,427 करोड़ रूपए की 10 परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। केंद्र सरकार की योजनाओं से छत्तीसगढ़ में विकास की लघु फ़िल्म का प्रदर्शन भी किया गया। विकसित भारत, विकसित छत्तीसगढ़ की थीम पर आधारित विकसित भारत संकल्प यात्रा का आयोजन कवर्धा के पीजी कॉलेज मैदान स्थित इंडोर स्टेडियम में किया गया।

विकसित भारत, विकसित छत्तीसगढ़ इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय, उपमुख्यमंत्री विजय शर्मा ने वर्चुअल माध्यम से जुड़े। इंडोर स्टेडियम में आयोजित इस कार्यक्रम में कबीरधाम जिले में निवासरत् विशेष पिछड़ी जनजाति बैगा समाज के वरिष्ठजनों को आमंत्रित किया गया था। बैगा समाज के मोती बैगा सहित  जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती सुशीला रामकुमार भट्ट, कवर्धा जनपद अध्यक्ष श्रीमती इंद्राणी दिनेश चंद्रवंशी, पूर्व विधायक एवं संसदीय सचिव मोतीराम चंद्रवंशी, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष अनिल ठाकुर, कैलाश चंद्रवंशी, जसविंदर बग्गा, गोपाल साहू, नितेश अग्रवाल, चंद्रप्रकाश चंद्रवंशी सहित कलेक्टर जनमेजय महोबे, पुलिस अधीक्षक डॉ. अभिषेक पल्लव, डीएफओ चुड़ामणि सिंह, जिला पंचायत सीईओं संदीप कुमार अग्रवाल सहित अन्य गणमान्य अतिथियों ने दीप प्रज्जवलित कर विकसित भारत, विकसित छत्तीसगढ़ का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में मुख्यअतिथियों द्वारा राज्य शासन द्वारा संचाचिल प्रचलित नवीन राशन कार्ड का हितग्राहियों को वितरण किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कार्यक्रम को वर्चुअल संबोधित किया। उन्होंने जय जोहार करते हुए कहा कि प्रदेश के कोने-कोने से जुड़े मेरे परिवारजनों आप सभी का मैं अभिनंदन करता हूँ। आप सभी ने हमें जो आशीर्वाद दिया, इसी का परिणाम है कि आज हम विकसित छत्तीसगढ़ के संकल्प के साथ आपके बीच आएं हैं। गरीब, किसान, युवा और नारी शक्ति के सशक्तिकरण से विकसित छत्तीसगढ़ का निर्माण होगा। यह आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर से बनेगा। इसलिए आज छत्तीसगढ़ के विकास से जुड़ी लगभग 35 हजार करोड़ रुपए की परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। इनमें कोयले से जुड़े, सौर ऊर्जा से जुड़े और कनेक्टिविटी से जुड़े अनेक प्रोजेक्ट हैं। इनसे छत्तीसगढ़ के युवाओं के लिए रोजगार के नये अवसर बनेंगे। इन योजनाओं के लिए छत्तीसगढ़ के भाई-बहनों को बधाई।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में डबल इंजन सरकार जिस प्रकार अपनी गारंटियों को पूरा कर रही है वो बहुत प्रशंसनीय है। छत्तीसगढ़ के लाखों किसानों को दो साल का बकाया बोनस दिया जा चुका है। तेंदूपत्ता संग्राहकों के पैसे बढ़ाने की गारंटी मैंने दी थी। डबल इंजन सरकार ने यह गारंटी पूरी कर दी है। गरीबों के घर पहले नहीं बन पा रहे थे। अब हमारी सरकार गरीबों के घर बनाने तेजी से काम कर रही है। हर घर जल की योजना, इसे भी पूरा करने की दिशा में सरकार तेजी से काम कर रही है। पीएससी परीक्षा में हुई गड़बड़ियों की जांच का आदेश दे दिया गया है। मैं छत्तीसगढ़ की बहनों को महतारी वंदन योजना की बधाई देता हूँ इससे लाखों महिलाओं को लाभ होगा। हम जो कहते हैं वो कर के दिखाते हैं। मोदी की गारंटी यानी गारंटी पूरा होने की गारंटी। छत्तीसगढ़ के पास परिश्रमी किसान, प्रतिभाशाली नौजवान और प्रकृति का खजाना है। विकसित होने के लिए जो भी चाहिए, छत्तीसगढ़ के पास पहले भी मौजूद था। आज भी है। आप सभी मोदी के परिवार हैं। आपके सपने ही मोदी का संकल्प हैं। आज मैं विकसित भारत, विकसित छत्तीसगढ़ की बात कर रहा हूँ।

मुख्यमंत्री विष्ण देव साय ने संबोधन करते हुए कहा कि आप छत्तीसगढ़ को 34 हजार 427 करोड़ रुपए की 10 परियोजनाओं का सौगात दे रहे हैं। मैं छत्तीसगढ़ की जनता की ओर से आपके प्रति आभार प्रगट करता हूँ। आपका स्नेह और अनुग्रह हमेशा हमारे ऊपर रहता है। छत्तीसगढ़ की जनता ने आपकी गारंटी पर भरोसा किय। आपकी गारंटी के सारे कामों को पूरा करने के लिए हम अग्रसर हुए हैं। 18 लाख से अधिक आवास स्वीकृत हुए हैं। 3716 करोड़ रुपए की दो साल की बोनस राशि किसानों को दी है। साथ ही 3100 रुपए धान की कीमत देने का वायदा था इसे पूरा किया।

उपमुख्यमंत्री विजय शर्मा ने वर्चुअल माध्यम से संबोधित करते हुए कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्ण देव साय के नेतृत्व में हमारा छत्तीसगढ़ राज्य विकसित राज्य की ओर तेजी से आगे बढ़ रहा है। उपमुख्यमंत्री शर्मा ने कहा कि प्रदेश में हमारी सरकार बनते ही मोदी की सभी गांरटियों को छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री साय जी के नेतृत्व में पूरा किया जा रहा है।  कैबिनेट की पहली बैठक में मोदी की गारंटी में शामिल 18 लाख आवासहीन, गरीब परिवारों के लिए निःशुल्क आवास की स्वीकृति दी गई। इसके बाद राज्य के 13 लाख किसानों को धान के बाकाया बोनस 3716 करोड़ रूपए किसानों के खाते में डाले गए। किसानों से प्रति एकड़ 21 क्विंटल धान की खरीदी की व्यवस्था के साथ धान खरीदी की गई। किसानों को धान के समर्थन मूल्य का भुगतान किया गया। 3100 रूपए प्रतिक्विंटल अंतर की राशि को एक मुश्त किसानों को दिया जाएगा। दीन दयाल उपाध्याय कृषि मजदूर कल्याण योजना के माध्यम से राज्य के भूमिहीन खेतिहर मजदूर को हर साल 10 हजार रूपए देने का प्रावधान भी शीघ्रता से पूरा किया जाएगा। मोदी की गारंटी में शामिल महतारी वंदन योजना की शुरूआत हो गई है अब तक राज्य के 75 लाख महिलाओं से आवेदन प्राप्त हो गए है। शीघ्र ही इस योजना के तहत पात्र विवाहित महिलाओं को सालाना बारह हजार रुपए दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ महिला सशक्तिकरण की दिशा में आगे बढ़ रहा है। राज्य के प्रत्येक ग्राम पंचायतों में महतारी सदन का निर्माण किया जाएगा।



उपमुख्यमंत्री विजय शर्मा ने केन्द्र सरकार और राज्य सरकार के सभी उपलब्धियों और भविष्य में लागू होने वाले जनकल्याणकारी योजना की विस्तार से जानकारी देते हुए विकसित भारत, विकसित छत्तीसगढ़ कार्यक्रम में शामिल सभी अतिथियों का स्वागत और अभिनंदन किया। इस अवसर पर गणेश तिवारी, मनीराम साहू, डॉ. आनंद मिश्रा, रिंकेश वैष्णव, खिलेश्वर साहू, अजय सिंह ठाकुर सहित जनप्रतिनिधि, जिले के नागरिक उपस्थित थे।

 

 

और भी

मैक यूनाइटेड ने किया ई.पी.एस का आयोज़न

रायपुर:  महाराजा अग्रसेन इंटरनेशनल कॉलेज(मैक)  में 23 फ़रवरी को जे.सी.आई रायपुर मैक यूनाइटेड का तीसरा स्थापना दिवस समारोह  एक शानदार  ट्रेनिंग के साथ का ट्रेनिंग विषय था “इफ़ेक्टिव पब्लिक स्पीकिंग”। यह ट्रेनिंग कार्यक्रम जे.सी अरिजीत गोस्वामी और जे.सी अंकित लूनिया के द्वारा हुआ। सबसे पहले उन्होने प्रॉब्लम बताई जो हर कोई फ़ेस करता हैं लोगों की आदत है तेज़ी से  बोलने की उन्हें  कुछ विराम लगाकर बोलना चाहिए  जो दिखता हैं वो बिकता हैं इसी तरह अपनी शरीर की भाषा को अच्छी  रखनी चाहिए जो किसीको बुरा मत लगे  उन्होंने बताया  तीन द्वार होते  हैं जिनका पालन हर किसी को कुछ कहने से पहले करना चाहिए कि क्या यह सच है, क्या यह आवश्यक है और क्या यह सचहै। सार्वजनिक भाषण के कुछ गुण हैं जैसे जानकार, बुद्धिमान, अधिक प्रामाणिक, स्मार्ट। स्टेज पर आना ही पब्लिक स्पीकिंग हर जगह स्टेज  हैं डर को अपने अंदर। कभी न आने दें  उन्होंने बताया  की कैसे वे अपने मंच के डर को कैसे दूर करे और लोगों के सामने प्रभावी ढंग से अपनी बातें रखसकते हैं उन्होंने कहा कि  प्रभावी भाषण के मुख्य स्तंभ बॉडी, लैंग्वेज और स्पीकर का आत्म विश्वास हैं| आधुनिक जीवन में प्रभावी सार्वजनिक भाषण कौशल का महत्व बढ़ता जा रहा है। आधुनिक जीवन में प्रभावी सार्वजनिक भाषण कौशल का महत्व बढ़ता जा रहा है। यह कार्यक्रम व्यक्तियों को सार्वजनिक भाषण कौशलों में सुधार करने के लिए निर्मित था।दूसरो के सामने आत्मविश्वास के साथ अपने आप को प्रस्तुत करना सिखाया|

इस अद्भुत ट्रेनिंग सत्र के बाद जेसीआई रायपुर माईक यूनाइटेड ने अपना स्थापना दिवस भव्य समारोहपूर्वक मनाया|

कार्यक्रम का आयोजन महाविद्यालय के चेयरमैन  राजेश अग्रवाल और प्राचार्य डॉ. एम.एस. मिश्रा, चैप्टर इंचार्ज जे.सी ऋषि पांडे और  प्रेसिडेंट फ़रज़ान सिद्दीक़,आईपीपी जे.सी कृति अग्रवाल के मार्गदर्शन में संपन्न  हुआ।

इस प्रोग्राम में प्रोग्राम डायरेक्टर के रूप में जे.सी अमन गोयल और जे.सी पलक सिंघल थे।धन्यवाद ज्ञापन सेक्रेटरी जे.सी रौनक़ बेंगानी द्वारा किया गया।

 

 

और भी

डिप्टी सीएम साव के अनुमोदन पर सड़क निर्माण के लिए 36.61 करोड़ स्वीकृत

रायपुर: राज्य शासन के लोक निर्माण विभाग ने मुंगेली, रायगढ़ राजनांदगांव, रायपुर, जशपुर, बस्तर और सूरजपुर जिले में विभिन्न सड़कों के निर्माण के लिए 36 करोड़ 60 लाख 50 हजार रुपए मंजूर किए हैं। उप मुख्यमंत्री तथा लोक निर्माण मंत्री अरुण साव के अनुमोदन के बाद विभाग ने 18 कार्यों के लिए कुल 39 करोड़ 58 लाख 99 हजार रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की है।

लोक निर्माण विभाग द्वारा मुंगेली जिले के लोरमी विकासखंड में रहंगी नाला पर उच्च स्तरीय पुल एवं पहुंच मार्ग के लिए एक करोड़ 85 लाख रुपए, खैरवार बघमार से अमलडीही मार्ग के लिए एक करोड़ 84 लाख रुपए, लोरमी विकासखंड के डी-1 नहर से पठारी कांपा मार्ग के लिए दो करोड़ तीन लाख रुपए और अखरार से श्मशान घाट पहुंच मार्ग के लिए एक करोड़ 38 लाख रुपए मंजूर किए गए हैं।

विभाग द्वारा रायगढ़ जिले के लोहरसिंग-लिंजीर मार्ग के चौड़ीकरण व मजबूतीकरण के लिए एक करोड़ 76 लाख रुपए, राजनांदगांव के पारीखुर्द में आंगनबाड़ी से श्मशान घाट पहुंच मार्ग के लिए 79 लाख 42 हजार रुपए, ईरा में गौठान से मुक्तिधाम पहुंच मार्ग के लिए एक करोड़ 70 लाख रुपए, रायपुर में बजाज कॉलोनी, एन.एम.डी.सी. कॉलोनी, प्रियदर्शिनी नगर, वल्लभ नगर चतुर्दिक मार्ग के डामरीकरण के लिए दो करोड़ 81 लाख रुपए, कटोरा तालाब, शैलेन्द्र नगर, पुराना राजेन्द्र नगर मार्ग के डामरीकरण के लिए दो करोड़ 51 लाख रुपए तथा मठपुरैना-रावतपुरा चतुर्दिक मार्ग के डामरीकरण के लिए दो करोड़ 80 लाख रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है।

लोक निर्माण विभाग ने जशपुर जिले में मस्कामारा-लवाकेरा मुख्य मार्ग के लिए एक करोड़ 81 लाख रुपए, राज्यीय राजमार्ग-17 से पुटकेला पहुंच मार्ग के लिए दो करोड़ 89 लाख रुपए, बस्तर जिले के खंडसरा-सारेगांव मार्ग के लिए दो करोड़ 95 लाख रुपए, सोनारपाल-चपका मार्ग के लिए दो करोड़ 96 लाख रुपए, करंदोला रानीगुड़ा से राष्ट्रीय राजमार्ग-30 तक सड़क निर्माण के लिए एक करोड़ 66 लाख रुपए तथा सूरजपुर जिले के श्रीराम वनगमन पथ के मिसिंग लिंक मार्ग रकसगंडा जलप्रपात पहुंच मार्ग के लिए दो करोड़ 54 लाख रुपए मंजूर किए हैं। रायपुर के सिविल लाइन स्थित नवीन विश्राम भवन में फर्नीचर और फिनिशिंग संबंधी कार्य के लिए विभाग द्वारा दो करोड़ 98 लाख 49 हजार रुपए स्वीकृत किए गए हैं।

और भी

दामाखेड़ा पहुंचे सीएम साय, हेलीपैड पर हुआ स्वागत

बलौदाबाजार: जिले के सिमगा विकासखंड अंर्तगत दामाखेड़ा में माघपूर्णिमा पर आयोजित होने वाले विश्व प्रसिद्ध सतगुरू कबीर संत समागम, दामाखेड़ा मेला में पहुंचे मुख्यमंत्री विष्णु देव साय का हेलीपैड में स्थानीय जनप्रतिनिधियों और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने गर्मजोशी से स्वागत किया गया। हेलीपैड पर अतिथियों का पूर्व विधायक शिवरतन शर्मा, आईजी अमरेश कुमार मिश्रा, कलेक्टर चंदन कुमार, एसएसपी सदानंद कुमार सहित बड़ी संख्या में पहुंचे जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीणों ने गुलदस्ता भेंटकर आत्मीय स्वागत किया। इस मौके पर उपमुख्यमंत्री विजय शर्मा, खाद्य मंत्री दयालदास बघेल, लुण्ड्रा विधायक प्रबोध मिंज भी उपस्थित रहे।

 

 

और भी

रसीद गुमी तो पार्किंग वाले ने वसूले 2 हजार, रेलवे ने ठेकेदार पर लगाया 50 हजार का जुर्माना

बिलासपुर: रेलवे स्टेशन में पार्क की गई गाड़ी की रसीद गुम जाने पर ठेकेदार ने यात्री से 2000 रुपये वसूल लिए। शिकायत मिलने पर वाणिज्य प्रबंधक ने 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है।


जानकारी के मुताबिक बुधवार को एक रेल यात्री अपनी गाड़ी लेने पार्किंग पर गया लेकिन उसकी पार्किंग रसीद गुम हो गई थी। वहां मौजूद पार्किंग कर्मचारी ने दो हजार रुपये की मांग की। यात्री ने कहा कि नियम तो सिर्फ 50 रुपये जुर्माने और आरसी बुक की प्रतिलिपि देने की है। मगर, कर्मचारी ने दो हजार रुपये के बिना गाड़ी देने से मना कर दिया। यात्री ने मजबूरन दो हजार रुपये दिए। इस दौरान उसके साथी ने पूरे लेनदेन का वीडियो बना लिया। यात्री ने इस क्लिपिंग के साथ रेल मंत्री के ट्विटर पेज पर शिकायत दर्ज कराई। रेल मदद एप में भी शिकायत दर्ज करा दी। इसके बाद रेलवे के अधिकारी हरकत में आए।

वाणिज्य प्रबंधक ने मामले की जांच कराई। शिकायत सही पाये जाने पर उन्होंने 50 हजार रुपये का जुर्माना पार्किंग ठेकेदार पर लगाया। साथ ही चेतावनी दी है कि यात्रियों से तय राशि से अधिक वसूली करने और दुव्र्यवहार करने पर ठेका निरस्त कर दिया जाएगा। यह पहला मौका है कि पार्किंग में अधिक राशि वसूल करने को लेकर इतनी अधिक राशि का जुर्माना लगाया गया।  ज्ञात हो कि हाल ही में रेलवे के गेट पर एंट्री करने के दौरान पार्किंग शुल्क वसूल करने का मामला हाईकोर्ट में सुना गया था। इसके बाद गेट पर पार्किंग ठेकेदारों की मनमानी कम हुई है।

 

 

और भी

पीएम विश्वकर्मा योजना के प्रशिक्षणार्थियों को दिये गये प्रमाण-पत्र

दंतेवाड़ा: कार्यालय महाप्रबंधक जिला व्यापार उद्योग केन्द्र द्वारा प्राप्त जानकारी अनुसार प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजनान्तर्गत एक दिवसीय जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन जिला ग्रंथालय दन्तेवाड़ा में सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय, रायपुर (एमएसएमई) एवं जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के तत्वाधान में किया गया था। कार्यक्रम में एमएसएमई रायपुर के सहायक निर्देशक अरविन्द तिवारी द्वारा परंपरागत कारीगरों एवं शिल्पकारों को पीएम विश्वकर्मा योजना के संबंध में आवेदन करने, प्रशिक्षण प्राप्त करने की प्रक्रिया एवं आधुनिक औजार, टूलकिट प्रदान करने व वित्तीय सहायता प्राप्त करने के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई। इसके साथ ही उनके द्वारा पीएम विश्वकर्मा योजना के प्रथम बैच के प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण पत्र वितरण किया गया। उक्त कार्यशाला में लगभग 200 हितग्राहियों ने भाग लिया।

जागरूकता कार्यक्रम में जनप्रतिनिधि, जसबीर नेगी, सहायक जन शिक्षण संस्थान के अधिकारी, कामनी पटनायक, लाइवलीहुड प्राचार्य, कृतेश हिरवानी, जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक, फिलीप तिग्गा सहित विभागीय अधिकारी कर्मचारी, जिले के पारंपरिक व्यवसाय से जुड़े कारीगरों/शिल्पकार बड़ी संख्या में उपस्थित रहें।

और भी

राजिम माघी पुन्नी मेला अब कुंभ कल्प मेला के नाम से जाना जाएगा

सदन में संशोधन विधेयक पारित

रायपुर: राजिम में हर साल आयोजित होने वाला माघी पुन्नी मेला अब ‘कुंभ कल्प मेला’ के नाम से जाना जाएगा। विपक्ष की मांग पर संशोधन विधेयक पर फैसला मतदान के जरिए हुआ, जिसमें संशोधन विधेयक के पक्ष में 43 तो विपक्ष में 30 वोट पड़े। संस्कृति मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने सदन में संशोधन विधेयक पेश किया। भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने विधेयक के पक्ष में अपनी बात रखते हुए कहा कि पिछली सरकार ने छत्तीसगढ़ की संस्कृति और इतिहास से छेड़छाड़ की। अजय चंद्राकर के बयान पर पक्ष और विपक्ष के बीच नोक-झोंक शुरू हो गई।विपक्षी सदस्यों ने राजिम माघी पुन्नी मेले का नाम बदलने पर आपत्ति जताई। अटल श्रीवास्तव ने कहा कि हमारी संस्कृति को मिटाने की कोशिश न करें। इस पर अजय चंद्राकर ने कहा कि सिर्फ नाम में ही संशोधन हो रहा है, लेकिन इसी से राजिम का गौरव जुड़ा है। चर्चा के दौरान अटल श्रीवास्तव और सुशांत शुक्ला के बीच तीखी बहस हुई। विधेयक पर मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि राजिम में कुंभ का स्वरूप मिलने के बाद लाखों लोग आने लगे हैं। राज्य भर में 5 हजार स्थानों पर माघी पुन्नी मेला होता है। कुंभ देश में सिर्फ चार स्थानों पर होता है। छत्तीसगढ़ की संस्कृति को आगे बढ़ाने कुंभ का नाम दिया। वेद पुराणों में महानदी को चित्रोत्पला कहा गया है। मंत्री ने कहा कि राजिम का धार्मिक महत्व है, यहां लोग अस्थि विसर्जन करते हैं। हम इस विधेयक के माध्यम से प्रदेश की संस्कृति को बढ़ा रहे हैं। माघी पुन्नी मेले के स्थान पर कुंभ कल्प मेला नाम दिया जा रहा है। संशोधन विधेयक पर विपक्ष ने मत विभाजन की मांग की, जिस पर पक्ष में 43 तो वहीं विपक्ष में महज 30 वोट पड़ने के साथ विधेयक पारित हुआ।

 

 

और भी

सीएम साय को केंद्रीय मंत्रियों, मुख्यमंत्रियों ने दी जन्मदिन की शुभकामनाएं...

रायपुर: मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय का आज जन्मदिन है। सुबह से ही बधाई का सिलसिला जारी है। सोशल मीडिया में तो बधाई की बाढ़ सी आ गई है। प्रधानमंत्री से लेकर कई राज्यों के मुख्यमंत्री उन्हें जन्मदिन की बधाई दे रहे हैं।


केन्द्रीय जनजातीय कार्य और कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री अर्जुन मुंडा ने मुख्यमंत्री विष्णु देव साय को जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। साथ ही उन्होंने साय के सदैव स्वस्थ,सुखी और दीर्घायु रहने की कामना की है।

मुख्यमंत्री साय को उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जन्मदिन की शुभकामनाएं सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर दी हैं। अपने शुभकामना संदेश में योगी आदित्यनाथ ने लिखा कि प्रभु श्रीराम से प्रार्थना है कि आपको उत्तम स्वास्थ्य और सुदीर्घ जीवन प्रदान करें। आप छत्तीसगढ़ महतारी की सेवा में निरंतर समर्पित रहें।

केन्द्रीय जनजातीय कार्य और कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री अर्जुन मुंडा ने मुख्यमंत्री विष्णु देव साय को जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। साथ ही उन्होंने साय के सदैव स्वस्थ,सुखी और दीर्घायु रहने की कामना की है।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने मुख्यमंत्री विष्णु देव साय को जन्मदिन की बधाई दी है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी सीएम साय को जन्मदिन की शुभकामनाएं सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर दी हैं। अपने शुभकामना संदेश में धामी ने लिखा कि बाबा केदारनाथ आपको सुदीर्घ,आरोग्यपूर्ण एवं सुखद जीवन प्रदान करें। मुख्यमंत्री साय ने अपने जन्मदिन पर शुभकामना संदेश के लिए धामी के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त किया है।

 

 

और भी

छत्तीसगढ़ केनाईन एसोसिएशन (डॉग शो) 25 फरवरी को

 रायपुर: छत्तीसगढ़ केनाईन एसोसिएशन द्वारा हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी डॉग शो का आयोजन 25 फरवरी 2024 दिन रविवार समय

12 बजे से सप्रे शाला मैदान, बूढ़ा तालाब रोड रायपुर में रखा गया हैं।
इस शो के माध्यम से कुत्तो की भिन्न -भिन्न प्रजातियां देखने को मिलता है व उनके स्वभावो का परिचय प्राप्त होता है।
कुत्तो की सकारात्मक तरीके से रख -रखाव की जानकारी प्रदान की जाती है।
इस शो में विभिन्न राज्यों से कुत्ते भाग लेने आयेंगे, जिससे हमारे प्रदेश का गौरव बढ़ता है।
इस शो के माध्यम से कुत्तो के प्रशिक्षण से सम्बंधित जानकारी प्राप्त होती है।
इस शो में कुत्तो की 40 से 50 विभिन्न नस्लें देखने को मिलेगी।
इस शो में केवल कुत्तो के प्रदर्शन हेतु ही फीस रखी गयी है, बाकी सभी दर्शकों हेतु निशुल्क व्यवस्था है।
कुत्तो की नस्ल से सम्बंधित राष्ट्रीय संथा केनल क्लब ऑफ इण्डिया से सम्बंधित जज (निर्णायक) होंगे जिनका नाम श्री राजीव
चौधरी जी है जो कि दिल्ली से है।
और भी
Previous123456789...146147Next