दुनिया-जगत

गाजा में अधिकतर इजरायली बंधक मर चुके हैं : ट्रम्प

वाशिंगटन: अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने दावा किया है कि गाजा में अधिकतर इजरायली बंधक मर चुके हैं। श्री ट्रम्प ने गुरुवार को न्यूयॉर्क शहर में चुनाव अभियान रैली में कहा, ऐसे बहुत से बंधक जिनका आप या हर कोई इंतजार कर रहे हैं , उनमें कई मर चुके हैं। उन्होंने दावा किया कि हमास के वार्ताकार इजरायल के साथ बंधक समझौते पर सहमत होने के लिए तैयार नहीं हं क्योंकि उनके अधिकांश बंधक मर चुके हैं। इससे पहले सोमवार को श्री ट्रम्प के तीन राजनयिकों ने गाजा संघर्ष पर नवीनतम जानकारी के लिए इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से मुलाकात की थी।

और भी

ब्रिटेन में आम चुनाव चार जुलाई को : सुनक

लंदन: ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने आगामी चार जुलाई को देश में आम चुनाव कराये जाने की घोषणा की है। श्री सुनक ने 10 डाउनिंग स्ट्रीट से राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा , आज मैंने संसद को भंग करने का अनुरोध महामहिम सम्राट से किया। महामहिम ने इस अनुरोध को स्वीकार कर लिया है। देश में 04 जुलाई को आम चुनाव होंगे।

प्रधानमंत्री की घोषणा नए आर्थिक आंकड़ों के आने के कुछ घंटों बाद हुई है जिससे पता चलता है कि देश में मुद्रास्फीति तेजी से गिरकर 2.3 प्रतिशत हो गई है, जो लगभग तीन वर्षों में सबसे निचला स्तर पर है। सत्तारुढ़ कंजर्वेटिव पार्टी इसे एक सुखद उपलब्धि मान रही है।

जनवरी 2023 में प्रधानमंत्री की पांच प्रतिज्ञाओं में मुद्रास्फीति को आधा करना शामिल था, जो 2022 के अंत में 11 प्रतिशत हो गया था। श्री सुनक ने कहा कि नवीनतम आंकड़े अर्थव्यवस्था के लिए एक प्रमुख क्षण को चिह्नित करते हैं और उज्जवल भविष्य दिखलाते हैं।

श्री सुनक की घोषणा पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, लेबर पार्टी के नेता कीर स्टार्मर ने कहा कि यह एक ऐसा क्षण है जिसकी देश को आवश्यकता है और वह इसका इंतजार कर रहा है। उन्होंने कहा कि देश का भविष्य आपके हाथों में है। एक साथ मिलकर हम अराजकता को रोक सकते हैं, भविष्य सकते हैं और देश का पुनर्निर्माण शुरू कर सकते हैं और अपने देश को बदल सकते हैं।

 

 

और भी

ईरान में 28 जून को होगा राष्ट्रपति चुनाव

तेहरान:  ईरानी सरकार ने सोमवार को निर्णय लिया कि देश में 14वें राष्ट्रपति का चुनाव 28 जून को होगा।  चुनाव की तारीख का निर्धारण एक बैठक में किया गया, जिसमें ईरान के प्रथम उपराष्ट्रपति मोहम्मद मोखबर, न्यायपालिका प्रमुख गुलाम हुसैन मोहसेनी-इजेई और संसद अध्यक्ष मोहम्मद बाकर कलीबाफ, कानूनी मामलों के उपाध्यक्ष मोहम्मद देहकान और ईरानी संवैधानिक परिषद और आंतरिक मंत्रालय के प्रतिनिधि शामिल हुए।

गौरतलब है कि ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी और विदेश मंत्री हुसैन अमीर-अब्दुलाहियान सहित उनकी टीम के कुछ सदस्यों की सोमवार सुबह मारे जाने की पुष्टि हुई, क्योंकि उन्हें ले जा रहे हेलीकॉप्टर का मलबा तेहरान से लगभग 670 किलोमीटर दूर वरजाकान काउंटी के पास रविवार को खराब मौसम में दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद मिला था।

ईरानी संविधान के अनुच्छेद 131 के अनुसार, अगर राष्ट्रपति अपने कर्तव्यों का पालन करने में असमर्थ हैं तो पहला उपराष्ट्रपति उनके दायित्वों का निर्वहन करेगा। साथ ही, अंतरिम राष्ट्रपति अधिकतम 50 दिनों के भीतर नए राष्ट्रपति के चुनाव की व्यवस्था करने के लिए कर्तव्यबद्ध है।

बैठक के दौरान, प्रतिभागियों ने कार्यकारी प्रतिनिधिमंडलों के गठन, उम्मीदवारों के पंजीकरण और चुनावी अभियानों के शुभारंभ सहित चुनावी प्रक्रिया के कार्यक्रमों को भी निर्धारित किया।

कार्यक्रम के आधार पर पंजीकरण 30 मई से तीन जून तक होगा, जिसके बाद उम्मीदवारों को 12 से 27 जून तक चुनावी प्रचार करना होगा। संवैधानिक परिषद ने इस कार्यक्रम पर सहमति दी है।

और भी

लाई चिंग ते ने ली ताइवान के नये राष्ट्रपति के रूप में शपथ

ताईपेई: ताइवान की सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (डीपीपी) के लाई चिंग ते ने सोमवार को राष्ट्रपति पद की शपथ ली और पदभार ग्रहण किया। ताइवान के विदेश मंत्रालय ने बताया कि शपथ ग्रहण समारोह और अन्य संबंधित कार्यक्रमों में 51 प्रतिनिधिमंडलों में पांच सौ से ज्यादा विदेश अतिथि शामिल हुए। ताइवान से राजनयिक संबंध रखने वाले आठ देशों के राष्ट्राध्यक्ष भी मौजूद रहे।

पेशे से डॉक्टर लाई (64) ने त्साई इंग वेन (67) की जगह ली है जो अधिकतम दो कार्यकाल पूरा कर चुकी थीं। लाई ऐसे समय में राष्ट्रपति बने हैं जब चीन के साथ ताइवान का टकराव बढ़ रहा है। चीन 2.3 करोड़ की आबादी वाले इस द्वीप पर दावा करता है। ताइवान में 1949 से स्वतंत्र सरकार है।

त्साई के आठ साल के शासन में सरकार का फोकस चीन के साथ यथास्थिति बनाये रखने और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ताइवान की दृश्यता बढ़ाने पर रहा।

समारोह के दौरान उप राष्ट्रपति हसिआओ बी खिम (52) ने भी पद की शपथ ली। वह 2020 से 2023 तक अमेरिका में ताइवान की अनौपचारिक राजदूत रहने से पहले कई साल तक डीपीपी नेता रह चुकी हैं।

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी डीपीपी को अलगाववादी संगठन बताती है। उसने धमकी दी है कि यदि पार्टी स्वतंत्रता की ओर कोई औपचारिक कदम बढ़ाती है तो वह ताइवान पर आक्रमण कर देगा।

अमेरिका ताइवान के साथ जटिल रिश्ता रखता है। वह ताइवान की सरकार को मान्यता नहीं देता है, लेकिन 1979 के ताइवान रिलेशन एक्ट के तहत कानूनी तौर पर ताइवान की रक्षा क्षमता को समर्थन देने के लिए बाध्य है।

 
और भी

हेलीकॉप्टर क्रैश में ईरान के राष्ट्रपति रईसी की मौत

तेहरान/नई दिल्ली: ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी को ले जा रहा हेलीकॉप्टर रविवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस हादसे में राष्ट्रपति रईसी की मौत हो गई। ईरानी राष्ट्रपति के काफिले में तीन हेलीकॉप्टर थे और इनमें से दो हेलीकॉप्टर सुरक्षित अपने गंतव्य पर उतर चुके हैं। काफिले के एक हेलीकॉप्टर में राष्ट्रपति रईसी के साथ विदेश मंत्री हुसैन अमीर-अब्दोल्लाहियन, पूर्वी अजरबैजान प्रांत के गवर्नर मालेक रहमती, तबरीज की शाही इमाम मोहम्मद अली अलहाशेम के साथ-साथ एक पायलट, को-पायलट, चालक दल प्रमुख, सुरक्षा प्रमुख और एक सुरक्षा गार्ड सवार थे।


इब्राहिम रईसी-

ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी का जन्म 1960 में उत्तरी पूर्वी ईरान के मशहद शहर में हुआ था। सिर्फ 20 साल की उम्र में ही उन्हें तेहरान के करीब स्थित कराज का महा-अभियोजक नियुक्त कर दिया गया था। साल 1989 से 1994 के बीच रईसी, तेहरान के महा-अभियोजक रहे और इसके बाद 2004 से अगले एक दशक तक न्यायिक प्राधिकरण के डिप्टी चीफ रहे। वे जून 2021 में उदारवादी हसन रूहानी की जगह इस्लामिक रिपब्लिक ईरान के राष्ट्रपति चुने गए थे।

सैन अमीर-अब्दोल्लाहियन-
साल 2021 में सैन अमीर अब्दोल्लाहियन ईरान के विदेश मंत्री बने। इससे पहले 2011 से 2016 तक वे अरब और अफ्रीकी मामलों के उप-विदेश मंत्री भी थे। वह 2007 में बगदाद में ईरान-इराक-अमेरिका त्रिपक्षीय बैठक में ईरानी वार्ता दल के प्रमुख थे।

मालेक रहमती-
मालेक रहमती एक ईरानी राजनेता थे। उन्होंने अपनी मृत्यु तक पूर्वी अजरबैजान के गरवर्नर के तौर पर बने रहे। रहमती ने इसी साल जनवरी में अपना पदभार संभाला था।

मोहम्मद अली अलहाशेम-

मोहम्मद अली अलहाशेम पूर्वी अजरबैजान प्रांत में वली-ए-फकीह के प्रतिनिधि और  तबरीज में शुक्रवार की प्रार्थना के इमाम भी थे।

पायलट ने हेलीकॉप्टर से खो दिया था नियंत्रण
सूत्रों के अनुसार पायलट ने होलीकॉप्टर से नियंत्रण खो दिया था, जिसके चलते यह हादसा हुआ। इस हादसे में राष्ट्रपति रईसी समेत बाकी सभी की मौत हो गई।  बचाव टीमों से पता चल रहा है कि हेलीकॉप्टर का पूरा केबिन काफी क्षतिग्रस्त और जल गया है। बता दें कि यह घटना अजरबैजान के सीमावर्ती शहर जोल्फा के करीब दुर्घटना घटी, जो ईरान की राजधानी तेहरान से 600 किलोमीटर दूर है।

 

 

और भी

स्लोवाकिया के प्रधानमंत्री पर जानलेवा हमला, हालत नाजुक...

ब्रातीस्लावा/नई दिल्ली: स्लोवाकिया के प्रधानमंत्री रॉबर्ट फिको पर जानलेवा हमला किया गया है। यह हमला उस वक्त हुआ जब वह कैबिनेट मीटिंग के बाद वह लोगों को संबोधित कर रहे थे। हमलावर ने उन्हें मारने के लिए कई राउंड गोलियां चलाईं। फिलहाल उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है।


बताया जा रहा है कि स्लोवाकिया के प्रधानमंत्री को गोली ठीक उसी तरह से मारी गई, जिस तरह से जापान के पूर्व पीएम शिंजो आबे को मारी गई थी। रॉबर्ट फिको को दो गोलियां लगीं हैं। एक गोली सीने में लगी है और दूसरी पेट में लगी है। बताया जा रहा है कि जिसमें पीएम पर हमला किया है वह व्यक्ति 71 साल का है, सुरक्षाबलों ने उसे गिरफ्त में ले लिया है। यह हमला क्यों किया गया, यह फिलहाल साफ नहीं हो सका है। हमला होने के तुरंत बाद सुरक्षाबल पीएम को अस्पताल ले गए, यहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। उधर सुरक्षाबल आरोपी से पूछताछ करने में जुटे हैं।

पिछले साल चौथी बार बने थे पीएम
स्लोवाकिया के पीएम रॉबर्ट फिको पिछले साल ही अक्टूबर में चौथी बार देश के पीएम चुने गए थे। उन्होंने 22.94 प्रतिशत वोटों के साथ जीत दर्ज की थी। रॉबर्ट ने स्लोवाकिया के हितों को प्राथमिकता देने, यूक्रेन में सैन्य सहायता कम करने के वादे के साथ चौथी बार पीएम का पद संभाला था। रॉबर्ट को पुतिन का नजदीकी माना जाता है।

 

 

और भी

ब्रिटेन के राजा चार्ल्स ने प्रिंस विलियम को सैन्य अधिकारी की भूमिका सौंपी

लंदन: ब्रिटेन के राजा चार्ल्स ने अपने हैम्पशायर हवाई क्षेत्र की यात्रा के दौरान प्रिंस विलियम को आधिकारिक तौर पर आर्मी एयर कोर के कर्नल-इन-चीफ की भूमिका सौंपी। चार्ल्स 32 साल पहले आर्मी एयर कोर के कर्नल-इन-चीफ बने थे। उन्‍होंने अपनी यह भूमिका सोमवार दोपहर को मिडिल वॉलॉप बेस पर आयोजित एक दुर्लभ संयुक्त आधिकारिक कार्यक्रम में अपने बड़े बेटे विलियम को सौंप दी।

आर्मी एयर कॉर्प्स ड्यूक ऑफ ससेक्स की पुरानी इकाई है, जिसमें उन्होंने 2012 में अफगानिस्तान के अपने दूसरे दौरे के दौरान अपाचे हेलीकॉप्टर कमांडर और सह-पायलट गनर के रूप में कार्य किया था। पिछले साल विलियम को सैन्‍य भूमिका सौंपने के राजा के फैसले को हैरी के लिए एक झटके के रूप में देखा गया था।

राजा ने कहा कि आर्मी फ्लाइंग म्यूजियम में सैनिकों, उनके परिवारों और दिग्गजों से मिलना बहुत खुशी का मौका था। उन्होंने कहा कि मुझे आशा है कि वेल्स के राजकुमार को अपना नया कर्नल-इन-चीफ बनाकर आप भविष्य में और अधिक सशक्त होंगे।

बड़ी बात यह है कि वह वास्तव में एक बहुत अच्छा पायलट है - इसलिए यह उत्साहजनक है। उन्होंने प्रदर्शित होने जा रहे विमान अपाचे एएच एमके.1 की स्मृति में एक पट्टिका का अनावरण किया, जो ब्रिटेन के किसी संग्रहालय में स्थापित होने वाली अपनी तरह की पहली पट्टिका है।

यह विमान 2007 में जुगरूम किले की लड़ाई के दौरान बचाव अभियान में शामिल चार में से एक था। राजा ने कहा कि मुझे बस इतना कहना है कि इस अवसर पर आपके साथ थोड़ी देर के लिए रहना कितना बड़ा आनंददायक है। मुझे 32 वर्षों तक आप सभी को जानने, आपकी गतिविधियों और उपलब्धियों की प्रशंसा करने का सौभाग्य मिला।

 

 

और भी

पुतिन ने मिशुस्टिन को प्रधानमंत्री नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव

मॉस्को: रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मिखाइल मिशुस्टिन को देश का प्रधानमंत्री नियुक्त करने के लिए निचले सदन ‘स्टेट ड्यूमा’ को एक प्रस्ताव सौंपा है। स्टेट ड्यूमा के अध्यक्ष व्याचेस्लाव वोलोडिन ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। श्री वोलोडिन ने टेलीग्राम पर कहा, राष्ट्रपति व्लादिमीर व्लादिमीरोविच पुतिन ने प्रधान मंत्री पद के लिए मिखाइल व्लादिमीरोविच मिशुस्टिन की उम्मीदवारी पर राज्य ड्यूमा को एक प्रस्ताव प्रस्तुत किया है।

रूसी अधिकारी ने कहा कि प्रधानमंत्री पद के लिए उम्मीदवारी पर चर्चा करते समय जनसांख्यिकी, तकनीकी संप्रभुता, आर्थिक विकास और रक्षा क्षमता के बारे में सवालों के जवाब हासिल करना महत्वपूर्ण है। श्री वोलोडिन ने कहा कि प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवारी की चर्चा संसद के सभी गुटों में होगी और स्टेट ड्यूमा का सत्र स्थानीय समयानुसार दोपहर 14.00 बजे शुरू होगा।

उन्होंने कहा कि मिशुस्टिन पहले निचले सदन को रिपोर्ट करेंगे और सांसदों द्वारा उठाए गए सवालों का जवाब देंगे और उसके बाद उम्मीदवारी पर मतदान होगा। श्री पुतिन ने मंगलवार को क्रेमलिन में रूसी राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। रूसी राष्ट्रपति 2030 तक अगले छह वर्षों के लिए पद संभालेंगे। उद्घाटन के बाद, मिशुस्टिन की अध्यक्षता वाली रूसी कैबिनेट ने कानून के अनुसार इस्तीफा दे दिया। प्रधानमंत्री पद के लिए उम्मीदवारी को शुक्रवार को बाद में राज्य ड्यूमा के सत्र में मंजूरी दी जाएगी।

 

 

और भी

रूसी सीमावर्ती क्षेत्र में यूक्रेनी ड्रोन हमले में छह लोगों की मौत

मॉस्को: रूसी सीमा क्षेत्र बेलगोरोड में यूक्रेनी ड्रोन हमले में छह लोग मारे गए। बेलगोरोड के गवर्नर व्याचेस्लाव ग्लैडकोव ने सोमवार को अपने टेलीग्राम चैनल पर लिखा, यूक्रेनी बलों ने बेरियोजोव्का गांव के पास तीन वाहनों को निशाना बनाया, जिससे 35 लोग घायल हो गए।

जिन तीन वाहनों को निशाना बनाया गया, उसमें कथित तौर पर दो वाहन मजदूरों को ले जाने वाली बसें थी, हालांकि, उनके नियोक्ताओं के बारे में कोई और विवरण उपलब्ध नहीं है।

ग्लैडकोव ने एक तस्वीर भी साझा की, जिसमें एक बस बुरी तरह क्षतिग्रस्त दिखाई दे रही है। यूक्रेन ने संघर्ष के दौरान रूसी सीमा क्षेत्रों में हथियार डिपो और परिवहन बुनियादी ढांचे पर छिटपुट हमले किए हैं।

और भी

सुनीता विलियम्स की तीसरी अंतरिक्ष यात्रा टली

वॉशिंगटन: भारतीय मूल की अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स की तीसरी अंतरिक्ष यात्रा टल गई है। दरअसल तकनीकी खराबी के चलते उड़ान भरने से 90 मिनट पहले मिशन को रोकने का फैसला किया गया। अभी लॉन्च की नई तारीख का एलान नहीं किया गया है। सुनीता विलियम्स मंगलवार को तीसरी बार अंतरिक्ष यात्रा पर जाने वाली थीं। सुनीता बोइंग के स्टारलाइनर अंतरिक्षयान से फ्लोरिडा के कैप कॉर्निवाल स्थित केनेडी स्पेस सेंटर से भारतीय समय के अनुसार, सुबह 8.04 बजे उड़ान भरने वाली थीं।

हालांकि उड़ान भरने से 90 मिनट पहले वैज्ञानिकों को अंतरिक्ष यान के ऑक्सीजन वाल्व में तकनीकी खामी का पता चला, जिसके चलते उड़ान को रोक दिया गया। सुनीता विलियम्स के साथ नासा के वैज्ञानिक बैरी विल्मोर भी बोइंग के अंतरिक्षयान से अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन जाने वाले थे। सुनीता विलियम्स अंतरिक्ष में रिकॉर्ड 322 दिन बिता चुकी हैं और उनके पास सबसे ज्यादा घंटे तक स्पेसवॉक करने वाली महिला वैज्ञानिक होने का रिकॉर्ड है।

विलियम्स पहली बार 9 दिसंबर 2006 को अंतरिक्ष में गईं थी और 22 जून 2007 तक अंतरिक्ष में रहीं थी। सुनिता विलियम्स ने चार बार रिकॉर्ड 29 घंटे और 17 मिनट तक स्पेसवॉक किया था। इसके बाद सुनीता विलियम्स 14 जुलाई 2012 को दूसरी बार अंतरिक्षयात्रा पर गईं और 18 नवंबर 2012 तक अंतरिक्ष में रहीं थी। 59 वर्षीय सुनीता विलियम्स ने बताया कि उड़ान से पहले वह थोड़ी नर्वस थीं, लेकिन साथ ही नए अंतरिक्षयान में उड़ान को लेकर वह उत्साहित भी थीं। विलियम्स ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन उनके लिए दूसरे घर जैसा है।

और भी

मूसलाधार बारिश ने ब्राजील से लेकर अमेरिका तक मचाई तबाही

अमेरिका के प्रमुख देश ब्राजील के रियो ग्रांडे डो सुल प्रांत में लगातार हो रही तेज बारिश ने भारी तबाही मचाई है. मड स्‍लाइडिंग (कीचड़ की बाढ़) की वजह से सैकड़ों की संख्‍या में वाहनों के साथ घरों को भी नुकसान पहुंचा है. केंद्र सरकार के साथ ही प्रांत की सरकार भी लोगों को बचाने में जुटी है. इसे ब्राजील के इतिहास का सबसे खौफनाक और गंभीर प्राकृतिक आपदा बताया जा रहा है. 

ब्राजील में मूसलाधार बारिश से सामान्‍य जनजीवन अस्‍त-व्‍यस्‍त हो चुका है. रियो ग्रांडे डो सुल प्रांत के साओ सेबेस्टियाओ डो साई में इतनी बारिश हुई कि पूरा इलाका ही डूब गया. लगातार हो रही मूसलाधार बारिश ने लोगों की समस्‍याएं बढ़ा दी हैं. हजारों की तादाद में लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर पहुंचाना पड़ा है.

ब्राजील के रियो ग्रांडे डो सुल प्रांत में पिछले कुछ दिनों से लगातार भारी बारिश हो रही है. इस वजह से हर तरह की गतिविधियां ठप हो गई हैं. स्‍कूल कॉलेज से लेकर व्‍यावसायिक प्रतिष्‍ठान तक बंद हैं. दूसरी तरफ, सरकार अभी तक हजारों की तादाद में प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्‍थानों तक पहुंचा चुकी है. राहत एवं बचाव कार्य लगातार जारी है.

 

 

और भी

मानेले सोलोमन द्वीप के नये प्रधानमंत्री चुने गए

होनियारा: जेरेमिया मानेले गुरुवार को सोलोमन द्वीप के नए प्रधानमंत्री चुने गए। सोलोमन द्वीप के गवर्नर जनरल डेविड वुनागी ने यह घोषणा की है। श्री वुनागी ने गुरुवार की सुबह एक गुप्त मतदान के बाद कहा कि श्री मानेले ने नवनिर्वाचित 50 सीटों वाली संसद में विपक्षी नेता मैथ्यू वाले को 31 के मुकाबले 18 वोटों से हराया। संसद के एक सदस्य ने मतदान में भाग नहीं लिया।

 

 

और भी

यूनिवर्सिटीज में बढ़ते फलस्तीन समर्थक प्रदर्शनों से घबराई सरकार

न्यूयॉर्क/नई दिल्ली: अमेरिका के कई विश्वविद्यालय इन दिनों विरोध प्रदर्शनों का केंद्र बने हुए हैं। दरअसल अमेरिकी यूनिवर्सिटीज में फलस्तीन के समर्थन में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। यह विरोध प्रदर्शन इतने बढ़ गए हैं कि अमेरिकी सरकार भी घबरा गई है। यही वजह है कि सरकार ने कई यूनिवर्सिटीज को बंद करने और ऑनलाइन कक्षाएं संचालित करने का आदेश दिया है। विरोध प्रदर्शनों के चलते सैंकड़ों छात्रों को हिरासत में लिया गया है और 100 से ज्यादा लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

अमेरिका की 21 यूनिवर्सिटीज में जारी विरोध प्रदर्शन
कैलिफोर्निया से लेकर न्यूयॉर्क तक अमेरिका की 21 यूनिवर्सिटीज में बीते कुछ दिनों से फलस्तीन समर्थक विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। बड़ी संख्या में छात्र कॉलेज परिसर में ही तंबू लगाकर रह रहे हैं। न्यूयॉर्क पुलिस ने तो सोमवार को यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयॉर्क और येले यूनिवर्सिटी प्रशासन को समन जारी कर फलस्तीन समर्थक प्रदर्शनों को सुलझाने को कहा है। बढ़ते विरोध प्रदर्शनों के चलते 21 यूनिवर्सिटीज में कक्षाएं ऑनलाइन संचालित की जा रही हैं। वहीं कुछ कॉलेज बंद ही कर दिए गए हैं।

अमेरिकी पुलिस ने सैंकड़ों प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया है। जिन यूनिवर्सिटीज से छात्रों को हिरासत में लिया गया है, उनमें यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास और यूनिवर्सिटी ऑफ सदर्न कैलिफोर्निया आदि शामिल हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास से ही 34 लोगों को हिरासत में लिया गया है। वहीं यूनिवर्सिटी ऑफ सदर्न कैलिफोर्निया से 93 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस ने इस हफ्ते की शुरुआत में 100 से ज्यादा लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

अमेरिकी स्पीकर के दौरे से बढ़ा विरोध
अमेरिका की संसद के स्पीकर माइक जॉनसन ने हाल ही में कोलंबिया यूनिवर्सिटी के कैंपस का दौरा किया, जहां उन्हें फलस्तीन समर्थकों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा। जॉनसन ने इसकी तीखी आलोचना की और इसे भीड़तंत्र की मानसिकता बताया। साथ ही उन्होंने इसे यहूदी विरोध का वायरस भी बताया। प्रदर्शनकारी छात्र कॉलेज कैंपस में इस्राइल विरोधी नारे लगा रहे हैं। 

और भी

संसद भवन के भीतर मस्जिद से जूते गायब, नंगे पैर लौटे कई सांसद...

इस्लामाबाद/नई दिल्ली: पाकिस्तान के संसद भवन (नेशनल असेंबली) के अंदर मस्जिद से जूते चोरी होने की एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। दरअसल, मस्जिद के बाहर से 20 जोड़ी जूते रहस्यमय तरीके से गायब हो गए। इसे देखकर सुरक्षाकर्मी भी हैरान रह गए। बताया गया कि मस्जिद से जूते गायब होने के बाद संसद के स्पीकर सरदार अयाज सादिक ने इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए सुरक्षा विभाग से रिपोर्ट मांगी है।


यह घटना शुक्रवार की नमाज के बाद की है। नमाज के दौरान नेशनल असेंबली के सदस्य, पत्रकार, संसदीय कर्मचारी समेत कई अन्य श्रद्धालु मस्जिद में मौजूद थे। जब तक वे नमाज पढ़कर बाहर निकलते उनमें से कई लोगों के जूते गायब हो चुके थे। सूत्रों के अनुसार जब मस्जिद में लोग नमाज अदा कर रहे थे, उसी दौरान चोर ने मौका पाकर 20 से अधिक जोड़ी जूते गायब कर दिए।

नमाज पढ़कर जब सांसद और पत्रकार बाहर निकले तब उन्होंने जो नजारा देखा, उसे देखकर वे चौंक गए। उनमे से अधिकांश के जूते गायब थे। जूते गायब होने पर कई लोगों ने हंगामा भी किया। इस दौरान उन्हें यह समझ नहीं आ रहा था कि अब क्या किया जाए। ऐसे में उन्हें नंगे पैर ही वापस लौटना पड़ा। हालांकि, कुछ लोग नंगे पैर जाने के लिए तैयार नहीं थे, वे अन्य विकल्प की तलाश कर रहे थे।

नेशनल असेंबली के स्पीकर ने सुरक्षा चूक पर जताई चिंता
इस घटना पर नेशनल असेंबली के स्पीकर सरदार अयाज सादिक ने सुरक्षा चूक पर गंभीर चिंता जताई है। सूत्रों के अनुसार, जब चोरी हुई, उस समय सुरक्षाकर्मी मौके पर मौजूद नहीं थे। इस घटना को लेकर अब कार्रवाई करने की मांग की जा रही है। फिलहाल सीसीटीवी फुटेज के जरिए चोर को ढूंढने की कोशिश की जा रही है। 

 

 

और भी

उत्तर कोरिया ने सुपर-लार्ज वॉरहेड का परीक्षण किया

प्योंगयांग: उत्तर कोरिया ने एक रणनीतिक क्रूज मिसाइल के लिए सुपर-लार्ज वॉरहेड का शक्ति परीक्षण किया है। यह जानकारी दक्षिण कोरिया की योनहाप समाचार एजेंसी ने उत्तर कोरिया के केसीएनए के हवाले से दी।

रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर कोरिया ने इसी सप्ताह पीले सागर में एक नई विमानभेदी मिसाइल का परीक्षण भी किया।रिपोर्ट में कहा गया है कि इस परीक्षण के माध्यम से एक निश्चित लक्ष्य प्राप्त किया गया। इसमें कहा गया कि वारहेड को ह्वासल-1 रा-3 रणनीतिक क्रूज मिसाइल के लिए डिजाइन किया गया है और नई विमान भेदी मिसाइल प्योलजी-1-2 है।

दोनों परीक्षण कथित रूप से उत्तर कोरियाई मिसाइल प्रशासन की नियमित गतिविधियों का हिस्सा थे।

और भी

ईरान के हमले के बाद जी7 ने इजरायल के प्रति पूर्ण समर्थन जताया

वाशिंगटन: जी7 देशों के नेताओं ने रविवार को वर्चुअल मुलाकात की और इजरायल और उसके लोगों के प्रति पूर्ण एकजुटता और समर्थन जताया और इसकी सुरक्षा के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि की। व्हाइट हाउस द्वारा जारी एक बयान में उन्होंने कहा, हम जी7 के नेता इजरायल के खिलाफ ईरान के सीधे और अभूतपूर्व हमले की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं। ईरान ने इजरायल की ओर सैकड़ों ड्रोन और मिसाइलें दागीं। मगर इजरायल ने अपने सहयोगियों की मदद से ईरान को हरा दिया।

जी7 देशों में संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, इटली, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी और जापान के साथ-साथ यूरोपीय संघ भी शामिल हैं। उन्होंने बयान में कहा, हम इजरायल और उसके लोगों के प्रति अपनी पूरी एकजुटता और समर्थन व्यक्त करते हैं और इसकी सुरक्षा के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराते हैं। उन्होंने कहा कि इजरायल पर हमला शुरू करके ईरान ने क्षेत्र को अस्थिर करने की दिशा में कदम बढ़ाया है और एक बेकाबू क्षेत्रीय तनाव को भड़काने का जोखिम उठाया है।

इससे बचा जाना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि वे गाजा में संकट को खत्‍म करने के लिए हमारे सहयोग को मजबूत करेंगे, जिसमें तत्काल और स्थायी युद्धविराम व हमास द्वारा बंधकों की रिहाई की दिशा में काम करना और जरूरतमंद फिलिस्तीनियों को बढ़ी हुई मानवीय सहायता प्रदान करना शामिल है। राष्ट्रपति बाइडेन ने इजरायल की सुरक्षा के लिए अमेरिका की दृढ़ प्रतिबद्धता की पुष्टि करने के लिए पहले इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से अलग से बात की।

बाइडेन ने एक बयान में कहा, मैंने उनसे कहा कि इजरायल ने अभूतपूर्व हमलों से भी बचाव करने और उन्हें हराने की उल्लेखनीय क्षमता का प्रदर्शन किया है - अपने दुश्मनों को एक स्पष्ट संदेश भेजा है कि वे प्रभावी रूप से इजरायल की सुरक्षा को खतरे में नहीं डाल सकते।

और भी

सिडनी मॉल में हुई चाकूबाजी-गोलीबारी में पांच की मौत, हमलावर भी मारा गया

 सिडनी: ऑस्ट्रेलिया के सिडनी शहर में स्थित वेस्टफील्ड बॉन्डी जंक्शन मॉल में चाकूबाजी और गोलीबारी के कारण हड़कंप मच गया। मौके पर पुलिस का अभियान जारी है। घटना में पांच लोगों की मौत हो गई और कई लोग घायल है। हालांकि वेस्टफील्ड बॉन्डी जंक्शन मॉल परिसर से जुड़ी घटना पर न्यू साउथ वेल्स पुलिस ने एक पोस्ट साझा किया। जिसमें कहा गया कि बॉन्डी जंक्शन पर एक व्यक्ति द्वारा चाकू से हमला किया गया।

शनिवार शाम 4 बजे से ठीक पहले कई लोगों को चाकू मारने की रिपोर्ट के बाद आपातकालीन सेवाओं को बुलाया गया और लोगों से घटनास्थल से दूर रहने का आग्रह किया जाता है। घटना के संबंध में पूछताछ जारी है। पुलिस ने कहा कि सिडनी में चाकू से हमला करने वाले व्यक्ति को हमला गिराया गया है।

वहां मौजूद लोगों ने बताया कि मॉल के भीतर से गोलीबारी की आवाज आ रही थी। लोगों पर चाकू से हमला किया गया। इस घटना में पांच लोगों की मौत हो गई। घटना को बाद भीड़ को इधर-उधर भागते हुए देखा गया था। घटना की जानकारी मिलते ही कई पुलिस गाड़ी और एम्बुलेंस घटनास्थल पर पहुंच गई। सोशल मीडिया पर घटना से जुड़ी कई वीडियो वायरल हो रही है। 

और भी

यूरोपीय संघ ने यूक्रेन को लेकर स्विट्जरलैंड की पहल का किया स्वागत

ब्रुसेल्स: यूरोपीय संघ ने यूक्रेन शांति शिखर सम्मेलन की मेजबानी करने के लिए स्विट्जरलैंड की पहल का स्वागत किया है और इसमें भाग लेने की योजना बना रहा है। यूरोपीय आयोग की विदेश मामलों की प्रवक्ता नबीला मासराली ने गुरुवार को यह जानकारी दी।

सुश्री मासराली ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, हम यूक्रेन में शांति बहाली के लिए उच्च स्तरीय सम्मेलन कराने के लिए स्विट्जरलैंड की ओर से तारीख की घोषणा किये जाने का स्वागत करते हैं... जहां तक ​​यूरोपीय संघ की भागीदारी की बात है, मैं अभी तक पुष्टि नहीं कर सकता कि इस आयोजन में यूरोपीय संघ का प्रतिनिधित्व कौन करेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि यूरोपीय संघ भाग लेने में खुश होगा।

 

और भी
Previous123456789...4546Next