शिक्षा

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा 23 मार्च को आयोजित परीक्षाएं यथावत रहेंगी

नगर निगम और नगर पालिका क्षेत्रों के स्कूलों में जहां परीक्षा आयोजित नहीं हो रही वहां चेट्रीचण्ड्र महोत्सव का अवकाश

रायपुर (छत्तीसगढ़ दर्पण)।  स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा स्कूलों में 23 मार्च को पूर्व में निर्धारित परीक्षाएं यथावत रूप से आयोजित की जाएंगी।

राज्य के समस्त नगर निगम और नगर पालिका क्षेत्रों के स्कूलों (जहां परीक्षाएं आयोजित हैं को छोड़कर) में 23 मार्च 2023 को चेट्रीचण्ड्र (चैतीचांद) महोत्सव का अवकाश रहेगा।

 

गौरतलब है कि सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा 23 मार्च को चेट्रीचण्ड्र महोत्सव के लिए राज्य के समस्त नगर निगम और नगर पालिका क्षेत्रों में सामान्य अवकाश घोषित किया गया है।

और भी

पीपरछेड़ी में नवीन स्कूल भवन स्वीकृत, बच्चों ने कहा : 'थैंक्यू भूपेश काका'...

 बालोद  (छत्तीसगढ़ दर्पण)। बालोद जिले के ग्राम पीपरछेड़ी के स्कूली बच्चों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को नवीन स्कूल भवन की स्वीकृति के लिए उत्साह के साथ धन्यवाद दिया है। स्कूल की छात्रा खिलेश्वरी, साक्षी और चित्रलेखा ने नवीन भवन की स्वीकृति मिलने पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि स्कूली बच्चों की मांग को मुख्यमंत्री ने पूरा किया है, अब उन्हें अपना नया स्कूल भवन मिल जाएगा। उन्होंने मुख्यमंत्री को नवीन स्कूल भवन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद कहा है। छात्रा रेशमा और सुहाना ने कहा कि नया स्कूल भवन बनने से अब स्कूल की सुविधाएं भी बढे़गी। क्लासरूम, प्रयोगशाला के साथ ही अन्य शैक्षणिक गतिविधियों में काफी मदद मिलेगी।

स्कूल के प्राचार्य ने बताया कि यह स्कूल 1984 से निर्मित है जिसे लगभग 40 वर्ष पूर्ण हो चुके हैं। वर्तमान भवन की स्थिति काफी कमजोर है, नया स्कूल भवन बनने से अब सभी के लिए सुविधा होगी।

 


उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री बघेल विगत माह फरवरी में एक कार्यक्रम में शामिल होने जिले के बालोद विकासखंड के ग्राम पीपरछेड़ी पहुँचे थे। जहां कार्यक्रम से वापस लौटने के दौरान स्कूली बच्चों ने मुख्यमंत्री के साथ फोटो लेने की ईच्छा जाहिर की। जिस पर मुख्यमंत्री बघेल ने बच्चों के पास पहुंचकर बड़े ही उत्साह भरे माहौल में बच्चों के साथ फोटो खिंचवाया। इस दौरान बच्चों ने मुख्यमंत्री से अपने स्कूल के लिए नए भवन बनाने की मांग की। जिस पर मुख्यमंत्री ने स्कूली बच्चों को नया भवन निर्माण कराने का भरोसा दिलाया था। मुख्यमंत्री द्वारा बच्चों को दिए गए इस भरोसे को त्वरित अमल में लाने जिला प्रशासन द्वारा कार्यवाही की गई। जिसके फलस्वरूप शासन द्वारा ग्राम पीपरछेड़ी में हायर सेकेंडरी स्कूल के नवीन भवन निर्माण हेतु 01 करोड़ 21 लाख रुपये की स्वीकृति दी गई है। स्वीकृति उपरांत अब स्कूल भवन निर्माण हेतु कार्य प्रारंभ किया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा बच्चों को दिए गए नवीन स्कूल भवन निर्माण के भरोसे को अब अमल में लाया जाएगा और स्कूली बच्चों को नवीन भवन की सौगात प्रदान की जाएगी।

और भी

स्कूली शिक्षा में बदलाव : स्कूल में व्यावसायिक शिक्षा के लिए बत्तख पालन की शुरुआत

महासमुंद (छत्तीसगढ़ दर्पण)। छत्तीसगढ़ में विगत वर्षों में स्कूली शिक्षा में व्यापक बदलाव आने लगा है। वहीं सरकारी स्कूलों की छवि को और बेहतर तथा इसे असरकारी बनाने की दिशा में लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। अभिभावकों के इच्छानुसार सरकारी स्कूलों में स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाने की सुविधा उपलब्ध करायी गई है। इसके साथ ही चालू शिक्षा सत्र से बस्ता विहीन स्कूल का प्रयोग भी शुरू हुआ है। इस दिन बिना स्कूल बैग के स्कूल पहुंचे बच्चों को स्थानीय कारीगरों, मजदूरों, व्यवसायियों के काम दिखाने की व्यवस्था है। विभाग द्वारा बच्चों की उपस्थिति पर विशेष जोर दिया जा रहा है।

सुघ्घर पढ़वईया योजना अंतर्गत महासमुंद जिले के सरायपाली विकासखण्ड के शहरी पांच विद्यालयों प्राथमिक शाला झिलमिला, लक्ष्मीपुर, बोडेसरा, लमकेनी और कसडोल स्कूल का चयन हुआ है। बीआरसी सतीश स्वरूप पटेल ने बताया कि हाल ही में थर्ड पार्टी के रूप में डाईट महासमुंद द्वारा विद्यालयों का निरीक्षण किया था। टीम द्वारा विद्यालयों के बच्चों के स्तर का आंकलन के साथ राज्य स्तरीय प्रश्न पत्र के आधार पर डिजिटल माध्यम से भी विद्यार्थियों का आंकलन किया गया।

 

सुघ्घर पढ़वईया योजनांतर्गत चयनित प्राथमिक शाला झिलमिला स्कूल में अभिनव पहल की गई है। इस स्कूल में व्यवसायिक शिक्षा को बढ़ावा देते हुए आत्मनिर्भरता की दिशा को बढ़ावा देते हुए बत्तख पालन प्रारम्भ किया गया है। प्राथमिक शाला के प्रधान पाठक प्रताप नारायण दास ने बताया कि बत्तख पालन बिना किसी आर्थिक सहयोग से शुरू किया गया है। आगे बत्तख पालन की जानकारी पढ़ाई के साथ-साथ विद्यार्थियों को दी जाएगी। ताकि उन्हें शिक्षा ज्ञान के साथ-साथ बच्चों को व्यवसाय से जुड़ने का ज्ञान हो। ताकि विद्यार्थी आत्मनिर्भर बन सके।

 

 

स्कूल में बत्तख पालन के लिए हैंड वॉश की पानी को स्टोर करने के लिए बनायी टंकी में बत्तख सुबह 10 बजे से 4 बजे तक रहेंगे एवं मध्यान्ह भोजन में बचे एवं गिरे हुए खाने को इकट्ठा कर बत्तखों को खिलाया जाएगा। यह कार्य मध्यान्ह भोजन चलाने वाली महालक्ष्मी महिला स्व-सहायता समूह की देख-रेख में होगा। बत्तखों को शाम तथा सरकारी छुट्टी में ये समूह बत्तखों की घर में देखभाल करेंगी। इस स्कूल में डिजिटल क्लासरूम, मुस्कान पुस्कालय, रनिंग वाटर युक्त शौचालय के साथ कई सुविधाएं भी उपलब्ध हैं।

 

 

स्कूल शिक्षा विभाग के नई शिक्षा नीति के अनुसार बच्चों की सीखने और समझने की क्षमता में विकास के लिए छत्तीसगढ़ बालवाड़ी योजना शुरू की गई है। यह योजना आंगनबाड़ियों के पांच से छः वर्षों के बच्चों के लिए है। जिससे बच्चों की सीखने और समझने की क्षमता का विकास खेल-खेल में करवाया जाता है। अब महासमुंद के स्कूलों में खेल गढ़िया कार्यक्रम अंतर्गत छत्तीसगढ़िया खेल के साथ विभिन्न खेल भी खेलाएं जा रहे हैं। इसके अलावा शाला के बाहर के बच्चों या गांव के आसपास के बच्चों को भी जो स्कूल नहीं जा रहे हैं, उन्हें शाला में लाने हेतु भी प्रयास किए जाते हैं। स्कूलों को पहले से और आकर्षक बनाया गया है। उन्हें सुंदर बनाने पर विशेष जोर दिया जा रहा है। ताकि बच्चों को अच्छा वातावरण मिले। बालिकाओं को सुरक्षा की दृष्टि से आत्मरक्षा संबंधित प्रशिक्षण भी स्कूलों में दिए जा रहे हैं।   

 

 

 

और भी

निजी स्कूलों के पास न अपना भवन न खेल मैदान, फिर भी शिक्षा विभाग मेहरबान....

रायपुर (छत्तीसगढ़ दर्पण)। छत्तीसगढ़ स्कूल शिक्षा विभाग ने मापदंडों काे पूरा नहीं करने वालों निजी स्कूलों को रेवड़ियों की तरह मान्यता बांटी रही है। हालात ऐसे हैं कि स्कूलों के पास न तो खुद का भवन है और न ही खेल का मैदान। इसके बावजूद इन्हें शिक्षा विभाग द्वारा धड़ल्ले से मान्यता दी जा रही है। इतना ही नहीं, मान्यता देने के बाद इनका नवीनीकरण भी किया जा रहा है। जबकि नियमानुसार निजी स्कूलों को अस्थायी तौर पर तीन वर्ष के लिए मान्यता दी जाती है।
साथ ही उक्त अवधि के भीतर ही अधूरे मापदंडों को पूरा करना निजी स्कूलाें की जिम्मेदारी होती है लेकिन इसके बावजूद राजधानी में ही कई ऐसे स्कूल संचालित हो रहे हैं, जिनके पास खुद का भवन तक नहीं है। वे किराए के भवनों में संचालित हो रहे हैं और उनके पास खेल के लिए मैदान तक नहीं है। फिर भी उन स्कूलों काे हर तीन वर्ष में मान्यता नवीनीकरण कर के जारी की जा रही है।

 

इसकी वजह से बच्चों काे स्कूलों में पर्याप्त सुविधाएं व संसाधन नहीं मिल रहे हैं।जांच भी कागजों तक ही रह जाती है सीमितस्कूलों द्वारा मान्यता के लिए आवेदन के दौरान सारी जानकारियां आनलाइन भरना होता है, इसके बाद उन्हें सशर्त मान्यता जारी की जाती है। वहीं, इसके बाद नवीनीकरण के लिए आवेदन करने के बाद जिला शिक्षा कार्यालय द्वारा उनकी जांच तक नहीं की जाती है और बिना निरीक्षण व मापदंड पूरा किए ही मान्यता रिन्यू कर दी जाती है।

 

शासकीय स्कूलों में भी हालात बदतरनिजी स्कूलों के अलावा शासकीय स्कूलों में भी हालात बदतर हैं। लगभग 30 प्रतिशत से ज्यादा स्कूलों में खेल का मैदान तक नहीं है। वहीं, जिसमें बढ़ईपारा, खोखाे पारा सहित कई स्कूल शामिल हैं। इसके अलावा कई स्कूलों में तो स्कूल के मैदानों पर ही अतिक्रमण कर लिया जा रहा है। जिसकी वजह से बच्चों को सुविधाएं नहीं मिल रही हैं।जिले में 855 से ज्यादा निजी स्कूलजिले में 855 निजी स्कूलों का संचालन किया जा रहा है।

 

जिनमें से आधे स्कूलों के पास खुद का भवन ही नहीं है। वहीं, शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत बनाए गए मापदंडों का पालन भी नहीं किया जा रहा है। ऐसे में नियमों के उल्लंघन से सीधे तौर पर छात्रों का ही नुकसान हो रहा है।स्कूलों में खेल का पीरियड ही नहींस्कूलों में अध्यापन कार्य करवाने के साथ ही खेल के लिए भी अलग से पीरियड लगाना अनिवार्य किया गया है।

 

इसके लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा भी निर्देशित किया गया है, लेकिन फिर भी ज्यादातर स्कूलों में खेल के लिए अलग से पीरियड तक नहीं लगाया जाता है। फिर वो चाहे सरकारी स्कूल हों या फिर निजी। सभी जगह यही हाल है।
रायपुर डीईओ आरएल ठाकुर के मुताबिक मान्यता देने से पहले जांच की जाती है। मापदंड पूरे नहीं होने पर अगली बार इसे पूरा करने का मौका दिया जाता है। कितने स्कूलों में खेल मैदान नहीं है, इसकी सूची मंगवाई जा रही है। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

और भी

महिला आयोग की कार्यशाला में विभिन्न विषयों पर प्रशिक्षणार्थियों को मिलेगा प्रशिक्षण


12 मार्च को राज्य स्तरीय प्रशिक्षण सह कार्यशाला

रायपुर(छत्तीसगढ़ दर्पण)छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग के अपने कार्यकाल में वर्ष 2020 जुलाई से अब तक राज्य महिला आयोग के द्वारा पीड़ित महिलाओं को उत्पीडन से न्याय दिलाने की दशा में सर्वाधिक कार्य हुई और वर्ष 2022-23 मे मुख्यमंत्री महतारी न्याय रथ के माध्यम से अब तक अम्बिकापुर, बिलासपुर, दुर्ग, रायपुर संभागों में रथ के माध्यम से जन जागरूकता का विशेष अभियान चलाया गया है। यह अभियान बस्तर संभाग में चलाया जाना शेष है।बस्तर, अम्बिकापुर, दुर्ग, बिलासपुर संभाग में राज्य स्तरीय सम्मेलन के माध्यम से लगभग 1500 मास्टर ट्रेनर तैयार किये गये है। जिनके माध्यम से महिलाओं एवं बच्चों को जागरूक किया जा सकेगा तथा रायपुर संभाग के सम्मेलन को राज्य स्तरीय सम्मेलन के माध्यम से 12 मार्च को राज्य स्तरीय प्रशिक्षण सह कार्यशाला का आयोजन किया गया है। कार्यशाला का उद्घाटन मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता महिला एवं बाल विकास मंत्री छत्तीसगढ़ शासन अनिला भेंड़िया करेंगी।

इस कार्यशाला में 1500-2000 प्रशिक्षणार्थियों का प्रशिक्षण विभिन्न विषयों पर किया जायेगा। इसमें पुलिस विभाग के आई.जी. सजीव शुक्ला के द्वारा मानव तस्करी विषय पर, फॉरेंसिक एक्सपर्ट डॉ सुनंदा ढेंगे के द्वारा अपराधों के दौरान साक्ष्य एकत्र करने और सबूत बचाये रखने के विषय में, परिवार न्यायालय और आंतरिक परिवाद समिति विषय पर अधिवक्ता शमीम रहमान तथा साइबर क्राइम पर मोनाली गुहा के द्वारा प्रशिक्षण दिया जायेगा। इस प्रशिक्षण से महिलाओं और बालिकाओं को विशेष जानकारियां एक ही प्लेटफार्म पर मिलेगी। पंडित दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में सुबह 10:00 बजे से शाम 05:00 बजे तक यह कार्यक्रम चलेगा। कार्यशाला में मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री, अध्यक्षता के रूप में महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया शामिल होंगी एवं प्रशिक्षणार्थियों के लिये विशेष उपहार योजना भी लागू रहेगी।
 

 

 

 
और भी

विज्ञान विषय के लिए परीक्षार्थियों ने हेल्पलाइन पर पूछे सवाल

 रायपुर (छत्तीसगढ़ दर्पण)। बोर्ड परीक्षा के दौरान छात्रों की समस्याओं का समाधान करने माध्यमिक शिक्षा मंडल हेल्पलाइन नंबर का संचालन कर रहा है। हेल्पलाइन के टोलफ्री नंबर 18002334363 पर प्रातः 10.30 से 5.30 बजे तक छात्र, पालक और शिक्षक अपनी समस्याएं साझा कर रहे हैं। मंडल की और से विशेषज्ञों की टीम इन समस्याओं का समाधान कर रही है।


हेल्पलाईन में शनिवार को कक्षा 10वीं विज्ञान विषय के लिए अर्पणा तिवारी, कु सरिता देवांगन, श्रीमती सोमाबनिक विषय विषेषज्ञों ने विषय संबंधी सवालो के जवाब देते हुए समस्या समाधान किया। साथ ही मण्डल के उपसचिव जे. के. अग्रवाल के मार्गदर्शन  में नोडल अधिकारी डॉ प्रदीप कुमार साहू के नेतृत्व में सहायक प्राध्यापक राजेन्द्र दुबे, श्रीमती अनिता सौंधी के सहयोग से विद्यार्थियों की समस्याओं का समाधान किया गया।

 

 

और भी

कुलपति विश्वविद्यालयों में बेहतर शिक्षा सुनिश्चित करें: राज्यपाल

राज्यपाल विश्वभूषण हरिचंदन से विभिन्न शासकीय व निजी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों ने की सौजन्य भेंट रायपुर

 (छत्तीसगढ़ दर्पण)।  राज्यपाल विश्वभूषण हरिचंदन नेे राज्य के विभिन्न शासकीय एवं निजी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से प्रदेश के विश्वविद्यालयों की गतिविधियों, समस्याओं आदि की विस्तृत जानकारी ली। उन्होंने विश्वविद्यालयों की नैक (एन.ए.ए.सीं.) ग्रेडिंग, विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की संख्या, दर्ज विद्यार्थियों की संख्या आदि की जानकारी ली। 

 

उन्होंने कुलपतियों को विश्वविद्यालयों में विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने के हरसंभव उपाय करने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने राज्यपाल के सचिव अमृत कुमार खलखो को विभिन्न विश्वविद्यालयों के लम्बित दीक्षांत समारोहों की जानकारी लेकर विश्वविद्यालयों में शीघ्र ही समारोह का आयोजन करने के निर्देश भी दिए। 

 

उन्होंने कहा कि दीक्षांत समारोह, विद्यार्थियों के जीवन का महत्वपूर्ण पड़ाव होता है। इसका प्रभाव विद्यार्थियों के भविष्य पर पड़ता है। दीक्षांत समारोह समय पर आयोजित किए जाएं ताकि उनके शिक्षा एवं कैरियर में किसी प्रकार की हानि न हो।

राज्यपाल हरिचंदन ने कहा कि विश्वविद्यालयों की समस्याओं आदि के संबंध में उन्हें राजभवन सचिवालय के माध्यम से प्रतिवेदन प्रेषित किए जाएं ताकि राज्य शासन से समन्वय के जरिए इन समस्याओं का निराकरण किया जा सके। उन्होंनेे आगामी दीक्षांत समारोहों के संबंध में कार्ययोजना बनाकर राजभवन सचिवालय को प्रेषित करने को कहा।

 

इस अवसर पर 12 शासकीय विश्वविद्यालयो पं. रविशंकर विश्वविद्यालय, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़, स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय भिलाई, पं. सुंदरलाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय बिलासपुर, शहीद महेंद्र कर्मा विश्वविद्यालय, जगदलपुर, संत गहिरा गुरू विश्वविद्यालय सरगुजा, दाऊ वासुदेव चंद्राकर कामधेनु विश्वविद्यालय अंजोरा, डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी अंतर्राष्ट्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी संस्थान रायपुर, हेमचंद यादव विश्वविद्यालय, दुर्ग महात्मागांधी उद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय, पाटन, शहीद नंदकुमार पटेल विश्वविद्यालय, रायगढ़ के  कुलपति एवं 05 निजी विश्वविद्यालय सी.वी.रमन विश्वविद्यालय,बिलासपुर, आई.सी.एफ.ए.आई. दुर्ग. एमिटी विश्वविद्यालय,रायपुर, ओ.पी.जिंदल विश्वविद्यालय, रायगढ़, के.के.मोदी विश्वविद्यालय,दुर्ग के कुलपति और निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग के अध्यक्ष डॉ. उमेश मिश्रा एवं सदस्यों ने मुलाकात की एवं राज्यपाल श्री हरिचंदन को होली की शुभकामनाएं दीं।

 

 

मुलाकात के दौरान पं. रविशंकर विश्वविद्यालय के कुलपति ने विश्वविद्यालय की शैक्षणिक गतिविधियों की जानकारी दी और बताया कि इसी माह दीक्षांत समारोह प्रस्तावित है।

 

तत्पश्चात् राज्यपाल हरिचंदन ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति को कृषि अनुसंधान का लाभ किसानों तक पहुंचाने की दिशा में विशेष प्रयास करने को कहा । साथ ही उन्होंने कृषि शिक्षा के प्रति विद्यार्थियों का रूझान बढ़ाने की दिशा में उपाय करने को भी कहा।

 

 

और भी

12वीं अंग्रेजी की परीक्षा में 226 विद्यार्थी रहे अनुपस्थित

 बेमेतरा (छत्तीसगढ़ दर्पण)। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल रायपुर द्वारा शुक्रवार को 12वीं अंग्रेजी की परीक्षा आयोजित की गई। हायर सेकेण्डरी परीक्षा का आयोजन 73 केंद्रों में हुआ। कक्षा 12वीं में कुल 11403 विद्यार्थी पंजीकृत है, जिसमें 226 अनुपस्थित रहें। जिला प्रशासन बेमेतरा द्वारा गठित निरीक्षण दल ने परीक्षा केन्द्र का सघन निरीक्षण किया गया। श्रम अधिकारी बेमेतरा द्वारा परीक्षा केन्द्र भिंभौरी, आनन्दगांव, गुधेली व खनिज अधिकारी बेमेतरा ने परीक्षा केन्द्र गोढीकला, मुरता, टेमरी, नांदघाट, मारो, सम्बलपुर का निरीक्षण किया।

एसडीओपी एचई द्वारा परीक्षा केन्द्र, बावामोहतरा, बालसमुन्द, चंदनु, मोहरेंगा, भनसुली, बदनारा व कार्यपालन अधिकारी जिला अंत्यावसायी द्वारा परीक्षा केंद्र जेवरा, जेवरी, कठिया रांका, तिलईकुडा का निरीक्षण किया गया। पशु चिकित्सा विभाग द्वारा परीक्षा केन्द्र बालक नवागढ़, कन्या शाला नवागढ़, अंधियारखोर, झाल का निरीक्षण किया। भावेश सिंह द्वारा परीक्षा केन्द्र कन्या शाला साजा, बालक स्कूल साजा, चिल्फी, ठेलका, सेजेस थानखम्हरिया, कन्या थानखम्हरिया, सं.शि.म. थानखम्हरिया, हाटरांका का निरीक्षण किया गया।

 

नायब तहसीलदार बेमेतरा द्वारा परीक्षा केन्द्र जेवरी, कुसमी, भनसुली का निरीक्षण किया। नायब तहसीलदार द्वारा परीक्षा केन्द्र अछोली, कठिया रांका केन्द्रों का निरीक्षण किया। तहसीलदार द्वारा बेमेतरा, बेरला, साजा, नवागढ, थानखम्हरिया एवं विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी के दलों ने परीक्षा केन्द्रों का निरीक्षण किया। केन्द्राध्यक्षों से प्राप्त जानकारी के अनुसार नकल प्रकरण निरंक रहा।  

और भी

बच्चों की बेहतर शिक्षा के लिए 69 शिक्षकों को दिया प्रशिक्षण

क्रियात्मक अनुसंधान एवं दीक्षा एप कार्यशाला विषय पर दिया प्रशिक्षण

नारायणपुर (छत्तीसगढ़ दर्पण)।  प्राचार्य जिला एवं प्रशिक्षण संस्थान, नारायणपुर ने बताया कि विगत दिनों संस्थान में तीन दिवसीय क्रियात्मक अनुसंधान एवं दीक्षा एप प्रशिक्षण आयोजित किया गया। इस प्रशिक्षण में जिले के दोनों विकासखण्डों के विभिन्न विद्यालयों के कुल 69 शिक्षकों ने सहभागिता दी। प्रशिक्षण के प्रथम दिवस में डाइट प्राचार्य अकादमिक सदस्य एवं प्रशिक्षु शिक्षकों की उपस्थिति में कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ किया।

प्रशिक्षण सत्र में अकादमिक सदस्यों द्वारा अनुसंधान एवं क्रियात्मक अनुसंधान के अर्थ परिभाषा, उद्देश्य, सोपान, लाभ समस्या का चयन एवं प्रविधि की विस्तृत जानकारी प्रशिक्षु शिक्षकों को प्रदान की गई। उन्होंने बताया कि द्वितीय दिवस में समस्त प्रशिक्षु शिक्षकों को अलग-अलग 7 समूह में बांटकर प्रयोग के लिए एक-एक समस्या का चयन कर क्रियात्मक अनुसंधान की प्रक्रिया पूर्ण कर प्रस्तुतिकरण के लिए निर्देशित किया गया। जिसमें प्रशिक्षु शिक्षकों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया एवं अपनी प्रस्तुति दी।

 

प्रशिक्षण के अंतिम दिवस में डिजिटल शिक्षा के अंतर्गत सुघ्घर पढ़वइया एवं एनआईसीएलईआर एप की विस्तृत जानकारी एवं दीक्षा एप की जानकारी प्रशिक्षु शिक्षकों को प्रदान की गई। इस प्रशिक्षण सत्र का समापन प्राचार्य जी.आर. मण्डावी एवं अकादमिक सदस्य मनोज कुमार रनघाटी, गिरीश कुमार भास्कर संजीव मण्डल, निधी दीपक एनपी साहू, दिनेश सिंह चौहान एवं प्रशिक्षु शिक्षकों की उपस्थिति में किया गया।

 

और भी

अच्छे परिणाम के लिए प्लानिंग , प्रिपरेशन व परिश्रम जरूरी-विजय चोपड़ा

रायपुर  (छत्तीसगढ़ दर्पण)। जैन संवेदना ट्रस्ट द्वारा बच्चों से बच्चों की बात द्वितीय कार्यशाला का आयोजन आदिश्वर जैन माध्यमिक शाला में किया गया । ट्रस्ट के अध्यक्ष महेन्द्र कोचर ने बताया कि बच्चों के मन में वार्षिक परीक्षा के डर को दूर करने व परीक्षा में सफलता के लक्ष्य निर्धारण हेतु मोटिवेशनल कार्यशाला आयोजित की जा रही है । शुक्रवार  की कार्यशाला में प्रसिद्ध शिक्षाविद विजय चोपड़ा ने मेरी परीक्षा मेरा लक्ष्य विषय पर बच्चों को मोटिवेशनल स्पीच देते हुए कहा कि परीक्षा में अच्छे परिणाम के लिए सही प्लानिंग , व्यवस्थित प्रिपरेशन व कड़ा परिश्रम बहुत जरूरी है ।

चोपड़ा ने अच्छे परिणाम के लिये प्लानिंग , प्रिपरेशन व परिश्रम को विस्तारित करते हुए कहा कि प्रिपरेशन के पूर्व अच्छी प्लानिंग करें । कुल विषयों को परीक्षा के बचे दिन से भाग देकर प्रत्येक विषय के लिये दिन निर्धारित करें । प्रत्येक विषय को तीन श्रेणी में बांट लें । वस्तुनिष्ठ प्रश्न , मन पसंद सरल प्रश्न व कठिन प्रश्न । तैयारी करते समय सरल प्रश्न से आरम्भ कर आगे बढ़ेंगे तो आत्मविश्वास भी बढ़ेगा । कठिन प्रश्नों की तैयारी के लिए प्रातः काल का समय बेहतर होगा । इस तरह के प्रयास अच्छे परिणाम देंगे । परीक्षा की तैयारी को स्वयं की इच्छा बनाएं फिर सफलता सौ प्रतिशत तय है । परीक्षा को बोझ या हव्वा न मानें बल्कि परीक्षा पर हावी होकर तैयारी में जुट जाएं । लगन , मेहनत , अनुशासन व आत्मविश्वास से ही पूर्ण सफलता प्राप्त होती है । 

इसे मूलमंत्र बनाएं , पूर्ण मनोभावों से किये परिश्रम से ही अच्छे परिणाम सामने आते हैं । अभी परीक्षा में एक माह का समय शेष है , एक बात तय है कि सफलता का कोई शॉर्टकट नही होता सो विषयों के अनुसार टाईम टेबल सेट करें , ऊँचा लक्ष्य निर्धारित करें अपनी क्षमता पर विश्वास करें व प्लानिंग से तैयारी आरम्भ कर देवें । 

 

मोटिवेशनल स्पीकर चोपड़ा ने छात्राओं की हौसलाअफजाई करते हुए बताया कि परीक्षा की तैयारी के बीच बीच में ब्रेक भी जरूरी है , प्रतिदिन की संतुलित निद्रा व आहार भी सफलता के आधार हैं । चोपड़ा ने छात्राओं को परीक्षा की समयबद्ध तैयारी के मध्य की अड़चन को इंगित करते हुए मोबाईल के उपयोग व दुरुपयोग पर विस्तृत चर्चा की , एक सिक्के के दो पहलू होते हैं । मोबाईल पर समय के दुरुपयोग से दूर रहकर उसके सही उपयोग को क्रियान्वित करें । कठिन प्रश्नों के उत्तर अपनी आवाज  में रिकॉर्ड करें उसे बार बार सुनकर मस्तिष्क पटल पर बैठाएं , इस प्रकार हमारे जीवन में रचे बसे मोबाईल का परीक्षा के लिए सदुपयोग का संकल्प छात्राओं ने लिया । अंत में अनेक छात्राओं ने अपने डाऊट बताए जिसका विजय चोपड़ा ने विस्तार पूर्वक समाधान देकर बच्चों  का उत्साहवर्धन किया ।

 

 

प्राचार्या हेमलता शर्मा ने मोटिवेशनल कार्यशाला के लिए आभार प्रकट किया । कार्यक्रम में महेन्द्र कोचर , कमल भंसाली ,  गुलाब दस्सानी , प्राचार्या हेमलता शर्मा , प्रधान अध्यापिका आभा शर्मा , शिक्षका योगिता शर्मा , प्रीति प्रिया , सरोज भोई , मोनिका बड़बाइक , तरुणा बिसेन , सोनल डोडवानी उपस्थित रहे।

और भी

आईटीआई की पढ़ाई पूरी होने के बाद प्लेसमेंट के लिए होगा प्रयास : मंत्री सिंहदेव

स्वास्थ्य मंत्री ने किया आईटीआई भवन का भूमिपूजन एवं हाई स्कूल का लोकार्पण

अम्बिकापुर (छत्तीसगढ़ दर्पण)। छत्तीसगढ़ शासन के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव रविवार को उदयपुर क्षेत्र के भ्रमण के दौरान ग्राम सोनतराई में लोक निर्माण विभाग द्वारा 3 करोड़ 44 लाख की लागत से बनने वाले आईटीआई भवन का विधिवत पूजा-अर्चना कर भूमिपूजन किया। वहीं ग्राम पंचायत जजगा में 75 लाख रुपए से नवनिर्मित हाई स्कूल भवन का लोकार्पण किया। सिंहदेव ने इस अवसर पर आईटीआई भवन को 4 कम्प्यूटर सेट प्रदान करने की घोषणा की।

कार्यक्रम के दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने नवीन आईटीआई भवन का भूमिपूजन कर शिलान्यास किया। स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने कहा कि छात्रों के सर्वांगीण विकास के लिए दूरस्थ क्षेत्रों में भी आईटीआई भवन खोले जा रहे हैं। उदयपुर में ट्रेड की संख्या को बढ़ाने के लिए आवश्यक कार्यवाही की जाएगी। इसके साथ ही आईटीआई की पढ़ाई करने वाले छात्रों के अधिकतम प्लेसमेंट के लिए विशेष प्रयास किया जाएगा।

इसके पश्चात स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव उदयपुर जनपद के अंतर्गत जजगा में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने ग्राम पंचायत जजगा में लगभग 75 लाख की लागत से नवनिर्मित हाई स्कूल भवन का विधिवत पूजा अर्चना कर लोकार्पण किया। कार्यक्रम के दौरान सिंहदेव ने हाई स्कूल में आवश्यक मूलभूत सुविधाओं के संबंध में जानकारी प्राप्त की।

कार्यक्रम के दौरान जिला पंचायत सदस्य राजनाथ सिंह, जनपद अध्यक्ष भोजवंती सिंह, जनपद उपाध्यक्ष नीरज मिश्रा, विधायक प्रतिनिधि सिद्धार्थ सिंहदेव, सरपंच जजगा रूखमणी सिंह सहित अन्य जनप्रतिनिधि, छात्र-छात्राएं एवं बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।


 

और भी

पटेवा में खोला जाएगा स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूल

महासमुंद (छत्तीसगढ़ दर्पण)। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज शाम महासमुंद में विभिन्न समाज एवं सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधिमण्डल से भेंट-मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने भेंट-मुलाकात के दौरान कहा कि पटेवा में स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूल खोला जाएगा। उन्होंने इस मौके पर एक-एक कर सभी समाज एवं संगठनों के प्रतिनिधियों से सामाजिक गतिविधियों के संबंध में जानकारी लेने के साथ ही उनसे शासकीय योजनाओं एवं कार्यक्रमों के क्रियान्वयन के संबंध में भी फीडबैक लिया।

 

और भी

पं. रविशंकर शुक्ल विवि के कुलपति की नियुक्ति के लिए समिति गठित

 रायपुर (छत्तीसगढ़ दर्पण)। राज्यपाल एवं कुलाधिपति अनुसुईया उइके ने छत्तीसगढ़ विश्वविद्यालय अधिनियम, 1973 (क्रमांक 22 सन् 1973) की धारा 13 की उपधारा (2) में निहित प्रावधान अंतर्गत पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर के कुलपति नियुक्ति के लिए समिति का गठन किया है। उक्त समिति के अध्यक्ष बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय, झांसी एवं सिद्धार्थ विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डॉ. सुरेन्द्र दुबे, पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयुष विश्वविद्यालय रायपुर के पूर्व कुलपति पद्मश्री डॉ. ए.टी. दाबके तथा भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, धारवाड़ के निदेशक प्रोफेसर वेंकप्पाया आर. देसाई सदस्य होंगे। यह समिति अधिसूचना प्रसारित होने की तिथि से 6 सप्ताह के अंदर कुलपति नियुक्ति के लिए तीन व्यक्तियों के पैनल कुलाधिपति को प्रस्तुत करेगी। इस संबंध में 13 दिसंबर को राजभवन सचिवालय से अधिसूचना जारी की गई है।

और भी

हजारों विद्यार्थीयों ने किया सूर्यांश मेगा प्रतियोगी परीक्षा अभियान में प्रतिभाग

 जांजगीर (छत्तीसगढ़ दर्पण)। सूर्यांश मेगा प्रतियोगी परीक्षा अभियान के तहत 11 दिसंबर को जांजगीर जिले के नवागढ़, बलौदा, पामगढ़, अकलतरा, बम्हनीडीह एवं सक्ती जिले के जैजैपुर, मालखरौदा एवं सक्ती विकासखंड के हजारों परीक्षार्थियों ने सहभागिता किया। जांजगीर शहर में आयोजित सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता परीक्षा में कु. वर्षा गढ़वाल ने प्रथम स्थान, ओमप्रकाश गढ़वाल ने द्वितीय स्थान एवं वैशाली कारके, मानस सूर्यवंशी व युक्ति गढ़वाल ने संयुक्त रूप से तृतीय स्थान प्राप्त किया। विजेताओं को इस अवसर पर मेडल एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

सूर्यांश शैक्षणिक भ्रमण अभियान की शुरुआत जांजगीर के कचहरी चौक से हुआ जिसे अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य एवं पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष रमेश पवार ने सूर्यांश भर दिखाकर रवाना किया। भ्रमण दल को संबोधित करते हुए रमेश पैगवार ने कहा कि शैक्षणिक भ्रमण द्वारा गांव-गांव पहुंचकर बच्चों को मार्गदर्शन करना बहुत महत्वपूर्ण कार्य है इससे विद्यार्थी गण सीधे लाभान्वित होंगे। सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता परीक्षा के साथ-साथ सूर्यांंश शैक्षणिक भ्रमण अभियान के तहत शैक्षणिक भ्रमण के मार्गदर्शकों ने सौ से अधिक गांवों में जाकर विद्यार्थियों को कैरियर मार्गदर्शन एवं उन्मुखीकरण करने हेतु प्रेरित किया।

भ्रमण दल के सदस्य जांजगीर और सक्ती जिले के 12 मार्गों पर 100 से अधिक गांवों में पहुंचकर विद्यार्थियों को कैरियर मार्गदर्शन एवं अन्य प्रतियोगी परीक्षा के साथ बेहतर स्वास्थ्य सुविधा के लिए 18 दिसंबर, रविवार को आयोजित मेगा हेल्थ कैंप का अधिक से अधिक लाभ उठाने के लिए प्रचार प्रसार किया जिसमें 50 से अधिक विशेषज्ञ चिकित्सक अपनी सेवाएं प्रदान करेंगे।

उक्ताशय की जानकारी देते हुए प्रो. गोवर्धन सूर्यवंशी ने बताया कि अपने अपने गांव में आयोजित सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता में प्रसन्नता व्यक्त करते हुए बढ़-चढ़कर सहभागिता किया। दल में ताराचंद रत्नाकर, दुखु राम गोयल, फिरत राम किरण, राम नारायण प्रधान, संजय फर्वे, शिव प्रधान, रामकृष्ण सोनवान, डीका राम शेष, उमाकांत टैगोर, सुरेश पैगवार, सूरज शेखर करियारे, सुखदेव प्रधान, संजय पैगवार, श्रद्धा कुमार रोलेज, नवल किशोर ताम्रकार,देव कुमार सूर्यवंशी, प्रशांत सूर्यवंशी, शुक्ला प्रसाद सूर्यवंशी, भास्कर गढ़ेवाल, जय प्रकाश खरे, कृष्णा टंडन, रोहित सोनी, कमलेश कुमार, गेंद राम प्रधान, राम कुमार भवानी सहित भ्रमण दल के सदस्य उपस्थित रहे। 

ज्ञात हो कि इस वर्ष भी सूर्यांश शिक्षा महामहोत्सव का आयोजन 24, 25 एवं 26 दिसंबर को सूर्यांश विद्यापीठ, सूर्यांश प्रांगण गौरव ग्राम सिवनी में किया जा रहा है जिसमें विद्यार्थियों में शिक्षा और कैरियर के प्रति सजगता लाने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।

 
 
और भी

संवरने लगा घुमंतू और कचरा बीनने वाले बच्चों का भविष्य

 रायपुर (छत्तीसगढ़ दर्पण)। छत्तीसगढ़ के उत्तर-पश्चिम में स्थित सीमावर्ती नवगठित जिला मनेन्द्रगढ़-चिरमिरी-भरतपुर में घुमंतू और कचरा बीनने वाले बच्चों की बे-रंग जिन्दगी में रंग भरने और उनके अंधकारमय भविष्य को रोशन करने का प्रयास अब धीरे-धीरे परवान चढ़ने लगा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की विशेष पहल पर जिला प्रशासन द्वारा संचालित ‘बाल जतन अभियान‘ के अंतर्गत तीन बच्चों का स्कूलों में दाखिला कराकर उनके शिक्षा-दीक्षा का प्रबंध सुनिश्चित किया गया है।

कलेक्टर पी.एस. ध्रुव ने बताया कि बीते 20 दिनों से जिले में इस अभियान के तहत घुमंतू और कचरा बीनने वाले बच्चों के सर्वेक्षण में 10 और बच्चे मिले है, जिनका दाखिला 15 दिसंबर को उनके रहवास के समीप के स्कूलों में कराया जाएगा। इसको लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इन बच्चों के लिए पुस्तक-कॉपी, बस्ता, यूनिफार्म एवं अन्य आवश्यक सामग्रियों का प्रबंध जिला प्रशासन ने किया है।

गौरतलब है कि कलेक्टर पी.एस.धु्रव के मार्गदर्शन में मनेन्द्रगढ़-चिरमिरी-भरतपुर जिले में घुमंतू और कचरा बीनने वाले बच्चों को शिक्षा से जोड़ने के लिए ‘बाल जतन अभियान‘ बीते 19 नवंबर से शुरू किया गया है। इस अभियान के तहत दस वर्षीय प्रिंस पनिका एवं कुमारी तनीषा का कक्षा चौथी में तथा 11 वर्षीय बालक कान्हा कुमार कौशिक का दाखिला कक्षा पांचवी में शासकीय प्राथमिक शाला बड़ाबाजार में कराया गया है, यह तीनों वार्ड क्रमांक 19 टिकरापारा चिरमिरी के रहने वाले है।

कलेक्टर पी.एस. ध्रुव ने बाल जतन अभियान के तहत प्रवेशित तीनों बच्चों की पढ़ाई-लिखाई का हाल जानने आज आकस्मिक रूप से चिरमिरी स्थित प्राथमिक शाला बड़ाबाजार पहुंचे। उन्होंने बच्चों से बातचीत की और उन्हें नियमित रूप से स्कूल आने की समझाईश दी। कलेक्टर ने प्रिंस पनिका से अंग्रेजी में उसका नाम पूछा, जिसका बिना झिझक उसने उत्तर दिया-‘माय नेम इज प्रिंस पनिका‘। कलेक्टर ने इस पर प्रसन्नता जतायी और उसे शाबाशी देते हुए उपहार स्वरूप प्रिंस पनिका को पेन प्रदान किया।

कलेक्टर ने बताया कि इस अभियान के तहत अब तक कुल 13 घुमंतू और कचरा बीनने वाले बच्चे सर्वेक्षित हुए है, जिनमें से तीन का दाखिला करा दिया गया है। अभी 15 दिसंबर को कुमारी मुस्कान, कुमारी आर्या, शिवा, प्रिंस, कुमारी नीतू, कुमारी आरती, कुमारी मनीषा आदि का एडमिशन कराया जाएगा।

इन बच्चों को पालकों से संपर्क कर उन्हें बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए स्कूल भेजने की समझाईश भी दी गई है। उन्होंने कहा कि स्कूलों में प्रवेशित बच्चों की मॉनिटरिंग की जा रही है। सप्ताह में एक दिन अधिकारी इन बच्चों के अध्ययन की जानकारी लेकर मूल्यांकन चार्ट भी तैयार कर रहे हैं।

और भी

ओपन स्कूल मुख्य-अवसर परीक्षा में प्रवेश के लिए अंतिम तिथि 31 दिसंबर

 रायपुर (छत्तीसगढ़ दर्पण)। छत्तीसगढ़ राज्य ओपन स्कूल, रायपुर द्वारा आयोजित मुख्य-अवसर परीक्षा वर्ष 2022 में सम्मिलित होने के लिए  प्रवेश की अंतिम तिथि 31 दिसम्बर तक निर्धारित की गई है। उक्त निर्धारित तिथि के पश्चात् 1 से 15 जनवरी 2023 तक राशि रूपये 500/- विलम्ब शुल्क के साथ छात्र-छात्राएं परीक्षा आवेदन फार्म जमा कर सकते हैं।

छात्र प्रवेश से सबंधित अधिक जानकारी के लिए अपने समीपस्थ अध्ययन केन्द्र में सम्पर्क कर जानकारी प्राप्त कर सकते है। प्रवेश के लिए आवेदन पत्र छग राज्य ओपन स्कूल के वेबसाईट से डाउनलोड कर सकते है और अपने समीपस्थ अध्ययन केन्द्रों में जमा कर सकते है।

 



अध्ययन केन्द्रों की सूची कार्यालयीन वेबसाईट www.sos.cg.nic.in में उपलब्ध है।a

और भी

स्वामी आत्मानंद स्कूलों में भर्ती के लिए आयोजित वॉक इन इंटरव्यू स्थगित

 कोरबा (छत्तीसगढ़ दर्पण)। जिले के स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक पदों में भर्ती के लिए आयोजित वॉक इन इंटरव्यू को स्थगित कर दिया गया है। कलेक्टर सह अध्यक्ष स्वामी आत्मानंद शासकीय इंग्लिश स्कूल संचालन प्रबंधन समिति कोरबा संजीव झा ने इस संबंध में जरूरी सूचना जारी किये है।

वॉक इन इंटरव्यू को अपरिहार्य कारणों से आगामी सूचना पर्यंत स्थगित की गई है। उल्लेखनीय है कि 13 से 15 दिसंबर तक कुल 25 पदों में भर्ती के लिए वॉक इन इंटरव्यू का आयोजन किया गया था। इस भर्ती प्रक्रिया को आगामी आदेश तक स्थगित किया गया है।


 

और भी

महावीर इंटरनेशनल ने शाउमा शाला नवागांव में आयोजित किया स्वास्थ्य कैंप

 रायपुर (छत्तीसगढ़ दर्पण)। महावीर इंटरनेशनल रायपुर मेन ने 9 दिसंबर को शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला नवागांव में स्वास्थ्य परीक्षण व नेत्र परीक्षण कैंप का आयोजन किया। कैंप में महावीर इंटरनेशनल दिल्ली एवं भारतीय कंटेनर निगम का सहयोग रहा। सुयश हॉस्पिटल की चिकित्सा टीम पूरे कैंप मैं अपनी सेवाएं दी। इस कैंप में अध्यक्ष वीर प्रकाश गोलछा। जॉन चेयरमैन डॉक्टर निरंजन हरितवाल। वीर मनोज बोथरा वीर पीयूष डागा वीर मदन तालेड़ा एवं लॉयन शिव कुमार गुप्ता लॉयन सुनील गुप्ता ग्राम सरपंच एवं वहां के नागरिक उपस्थित थे।

 

 

और भी
Previous123456789...2425Next